कोरोना की Nasal Vaccine पर रिसर्च जारी, नाक के अंदर किया जाता है स्प्रे, जानें पूरी रिपोर्ट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए वैक्सीनेशन पर बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने बताया बताया कि, देश में कोरोना के ‘नेजल वैक्सीन’ पर रिसर्ज जारी है

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए वैक्सीनेशन पर बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने बताया कि, देश में कोरोना के ‘नेजल वैक्सीन’ (Nasal Vaccine) पर रिसर्ज जारी है। इसे सिरिंज से ना देकर नाक (Nose) में स्प्रे किया जाएगा। अगर यह ट्रायल सफल हो गया तो इससे भारत के वैक्सीन अभियान में और भी तेजी आएगी।

जानिए क्या है ‘नेजल वैक्सीन’

‘नेजल वैक्सीन’ (Nasal Vaccine) नाक में लगने वाला टीका होता है जो किसी व्यक्ति को नाक के माध्यम से दिया जाने वाला टीका है। और इसके लिए सुई की आवश्यकता नहीं होती है। यह नाक की आंतरिक सतह के माध्यम से प्रतिरक्षा को प्रेरित करता है, एक ऐसी सतह जो स्वाभाविक रूप से कई वायुजनित रोगाणुओं के संपर्क में आती है।

नाक के माध्यम से एक टीका प्रशासित करना दर्द रहित, गैर-आक्रामक और सुई का उपयोग करने से आसान होता है, जिसमें सुई की छड़ी की चोटों और सुरक्षित निपटान से संबंधित मुद्दों का जोखिम होता है।

Fluenz Tetra

नेजल लाइव एटेन्युएटेड इन्फ्लुएंजा वैक्सीन (LAIV) संयुक्त राज्य अमेरिका में फ्लूमिस्ट क्वाड्रिवेलेंट नाम के ब्रांड और यूरोप में फ्लुएंज टेट्रा (Fluenz Tetra) के ब्रांड नाम के तहत उपलब्ध है।

वैक्सीन का Research

2001 के 11 सितंबर के हमलों और उसके बाद के एंथ्रेक्स हमलों के बाद, एंथ्रेक्स के लिए नाक के टीके में विकास सहित, ऐसे टीकों की सक्रिय खोज की गई है जिन्हें संग्रहीत और भंडारित किया जा सकता है। 2004 में एक प्रयोग में SARS-CoV के टीके की खोज में 4  अफ्रीकी हरे बंदरों को नाक का टीका दिया गया था।

अगस्त 2020 में COVID-19 महामारी के दौरान, चूहों और बंदरों पर किए गए अध्ययनों से पता चला है कि नए कोरोना वायरस (Corona Virus) से सुरक्षा नाक के रास्ते से प्राप्त की जा सकती है। एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि यदि नाक में एक स्प्रे द्वारा एक COVID-19 वैक्सीन दी जा सकती है, तो लोग खुद को टीका लगाने में सक्षम हो सकते हैं।

देशवासियों को मुफ्त वैक्सीन

पीएम मोदी ने जानकारी देते हुए बताया कि ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ पर 21 जून से देश के हर राज्य में 18+ से अधिक उम्र के सभी नागरिकों के लिए भारत सरकार राज्यों को मुफ्त वैक्सीन मुहैया कराएगी। यानी कि वैक्सीनेशन की पूरी जिम्मेदारी पूरी तरह से केंद्र सरकार उठाएगी। राज्यों को इस पर कुछ भी खर्च नहीं करना होगा।

जिसकी वजह से सभी देशवासियों को मुफ्त वैक्सीन लगेगी। पीएम मोदी ने कहा कि सबकी वैक्सीनेशन की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है।

यह भी पढ़ेचोकसी ने भारत न आने के लिए चला नया पैतरा, पत्र में लिखी किडनैपिंग की कहानी 

Related Articles

Back to top button