रिसर्च: डायबटीज की इस दवाई से हो सकता है अल्जाइमर का भी इलाज

0

लंदन: एक रिसर्च के बाद वैज्ञानिकों ने बताया है कि डायबटीज की बीमारी को ठीक करने वाली दवाई को लेकर बड़ा खुलासा करना है। उनका कहना है कि जो दवाई डायबटीज के इलाज के लिए प्रयोग की जाती है, उससे अल्जाइमर का इलाज भी किया जा सकता है। अपने रिसर्च में चूहों पर ड्रग का इस्तेमाल करके यह बयान दिया है। इस रिसर्च का उल्लेख Brain Research नाम की स्वास्थ्य पत्रिका में किया गया है।

इस रिसर्च में कहा गया है कि टाइप 2 मधुमेह के इलाज के लिए इस्तेमाल होने वाले ‘triple agonist’ ड्रग को अल्जाइमर ठीक करने के लिए भी काम में लिया जा सकता है। बता दें कि अल्जाइमर गंभीर दिमागी बीमारी है और दुनिया में काफी लोग इससे ग्रस्त हैं। अल्जाइमर सोसाइटी ने आकड़ों के आधार पर कहा है कि साल 2051 तक सिर्फ यूके में ही इस बीमारी के 20 लाख से ज्यादा मरीज होंगे।

ब्रिटेन के लांस्टर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर क्रिश्चयन होल्शर का कहना है, ‘इन दवाओं के जरिए यादाश्त खोने से जुड़ी बीमारियों, जैसे अल्जाइमर्स का इलाज होने की काफी संभावनाएं हैं। हालांकि वैज्ञानिकों का ये भी कहा है कि ये ड्रग अभी सिर्फ चूहों पर ही असर दिखा पाया है। इंसानों पर इसका कितना प्रभाव पड़ेगा इस पर अभी और अध्ययन की जरूरत है।

वैज्ञानिकों ने App/PS1 कैटेगरी के चूहों का इस्तेमाल किया। इन चूहों में इंसानों से मिलते जुलते ऐसे जीन्स शामिल थे जो अल्जाइमर की बीमारी से ग्रस्त मरीजों में भी होते हैं। जब इन चूहों पर दवाई का इस्तेमाल किया गया तो देखा गया उनकी सोचने-समझने की शक्ति और याददाश्त में इजाफा हुआ। साथ ही उनके दिमाग का विकास भी बेहतर तरीके से हो रहा था।

बता दें कि अल्जाइमर सबसे खतरनाक और सबसे ज्यादा होने वाली दिमागी बीमारी है। इसमें मस्तिष्क के भीतर मौजूद जीवित कोशिकाएं मरने लगती हैं। इसके करण इंसानों में भूलने की बीमारी बढ़ जाती है और बौद्धिक क्षमता में तेजी से गिरावट आती है। एक तरह से ये दिमाग को तेजी से कमजोर बनाती है।

loading...
शेयर करें