रिसर्च: रोजाना चाय पीने से बढ़ती है क्रिएटीविटी और मानसिक एकाग्रता

0

बीजिंग: रोजाना चाय पीने से लोगों की मानसिक एकाग्रता और रचनात्मकता बढ़ती है। यह दावा चीन के पीकिंग यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने किया है। उन्होंने अपने इस शोध में बताया है कि चाय पीने के कुछ ही देर के भीतर उसके सकारात्मक प्रभाव दिखाई देने लगते हैं। थियानिन और कैफीन से भरपूर चाय एकाग्रता बढ़ाने के अलावा व्यक्ति की संज्ञानात्मक क्षमता को दुरुस्त करने का भी काम करता है।

हाल ही में इस शोध को फूड क्वालिटी एंड प्रीफरेंस नाम की पत्रिका ने प्रकाशित किया है जिसमें शोधकर्ताओं ने लगभग 23 साल के उम्र के 50 विद्यार्थियों को शामिल किया। 25 विद्यार्थियों को एक गिलास गर्म पानी जबकि अन्य 25 को ब्लैक टी पीने के लिए दिया गया था। इसके बाद शोधकर्ताओं में इन विद्यार्थियों की संज्ञानात्मक कुशलता की जांच की। इसके लिए शोध के प्रतिभागियों को बिल्डिंग ब्लॉक की मदद से एक रचनात्मक और खूबसूरत बिल्डिंग बनाने का काम सौंपा गया था।

दूसरे टास्क के रूप में एक काल्पनिक नूडल रेस्टोरेंट का नाम सुझाने के लिए कहा गया था। इस टेस्ट को जज करने के लिए उन विद्यार्थियों को नियुक्त किया गया था जो इस शोध में शामिल नहीं थे। इसके परिणामों में उन विद्यार्थियों ने केवल पानी पीने वाले प्रतिभागियों के मुकाबले अधिक अंक प्राप्त किए जिन्होंने लगातार चाय का सेवन किया था।

पत्रिका में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि यह शोध लोगों की रचनात्मकता पर चाय पीने के पड़ने वाले प्रभावों का अध्ययन करने के लिए किया गया था। इससे लोगों के खान-पान और उनकी संज्ञानात्मक क्षमता के बीच संबंधों को समझने में मदद मिलती है। कैफीन और थिआनिन नाम के दो तत्वों का लोगों की एकाग्रता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि चाय पीने के दीर्घकालिक प्रभावों को जानने के लिए अभी और शोध की आवश्यकता है।

 

loading...
शेयर करें