शोध : इंसानों की गंध याद रखते हैं मच्छर

0

न्यूयॉर्क। एक नए शोध में सामने आया है कि मच्छर उन्हें मारने वालों से दूर भागते हैं। इसमें कहा गया है कि मच्छर तेजी से सीख सकते हैं और गंध को याद रखते हैं और इस प्रक्रिया में डोपामाइन एक मुख्य मध्यस्थ की भूमिका निभाता है। यदि एक व्यक्ति की गंध अच्छी है तो मच्छर अप्रिय गंध के बजाय प्रिय गंध को पसंद करते हैं। इस शोध का प्रकाशन ‘करंट बॉयोलॉजी’ नामक पत्रिका में किया गया है।

शोध के अनुसार, मच्छर इस जानकारी का इस्तेमाल करते हैं और इसे दूसरे उद्दीपकों के साथ विशेष कशेरूकी पोषक जातियों व निश्चित आबादी में इस्तेमाल करते हैं। हालांकि, शोध से यह भी साबित होता है कि यदि एक व्यक्ति की गंध अच्छी है तो मच्छर अप्रिय गंध के बजाय प्रिय गंध को पसंद करते हैं।

शोधकर्ताओं के मुताबिक, व्यक्ति जो मच्छरों को ज्यादा मारते हैं या रक्षात्मक रवैया अपनाते हैं, चाहे उनका खून कितना भी मीठा हो मच्छर उनसे दूर रहते हैं। अमेरिका के वर्जीनिया टेक के शोध के सहायक प्रोफेसर चोल लाहोंड्रे ने कहा, अब हम जानते हैं कि मच्छर गंध पहचानते हैं और उन्हें लेकर ज्यादा रक्षात्मक रहने वालों से बचते हैं।

वहीं, दूसरी तरफ मच्छरों से कई तरह की बीमारियों होने का भी खतरा होता है। ज्यादातर लोग मच्छरों को मारने के लिए रासायनिक कीटनाशकों का इस्तेमाल करते हैं लेकिन जबकि ये हानिकारक होते हैं। यूं तो हर मौसम में मच्छर रहते हैं, लेकिन बारिश के दिनों में मच्छर कुछ ज्यादा ही पैदा हो जाते हैं। इन दिनों में बारिश का पानी जगह-जगह पर भर जाने से मच्छर अधिक मात्रा में पैदा हो जाते हैं।

loading...
शेयर करें