बिल पास होने के बाद दिया था इस्तीफा, अब क्यों कर रही है ड्रामा, हरसिमरत से भिड़े कांग्रेस सांसद

कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल दोनों संसद भवन के गेट पर कृषि कानूनों को लेकर विरोध कर रहे थे, जब बिट्टू और बादल के बीच बदसलूकी हुई।

नई दिल्ली: सत्तारूढ़ भाजपा के खिलाफ विपक्ष के लगातार विरोध के बीच तीन विवादित कृषि कानूनों को लेकर बुधवार को संसद परिसर में कांग्रेस सांसद रवनीत बिट्टू और अकाली दल की सांसद हरसिमरत कौर बादल के बीच युद्ध छिड़ गया।

कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल दोनों संसद भवन के गेट पर कृषि कानूनों को लेकर विरोध कर रहे थे, जब बिट्टू और बादल के बीच बदसलूकी हुई। बादल के विरोध को एक बहाना बताते हुए बिट्टू ने कहा कि जब कृषि कानून पारित किया गया था तब वह केंद्रीय मंत्री थीं, लेकिन तब उन्होंने इसका विरोध नहीं किया। बिट्टू ने बादल की ओर इशारा करते हुए कहा “आप उस कैबिनेट का हिस्सा थे जिसने कृषि बिलों को मंजूरी दी थी और आज इस मुद्दे पर नाटक कर रहे हैं।”

जवाब में अकाली दल के सांसद ने सवाल किया कि विधेयक पारित होने पर कांग्रेस नेता सोनिया गांधी और राहुल गांधी संसद में मौजूद क्यों नहीं थे। उन्होंने कहा, “कृपया उनसे पूछें कि जब यह सब हो रहा था तब राहुल गांधी कहां थे? इस पार्टी (कांग्रेस) ने बहिर्गमन कर विधेयकों को पारित कराने में मदद की। उन्हें झूठ बोलना बंद करना होगा।” इसके बाद बिट्टू ने अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल पर यह कहते हुए तीखा वार किया कि वह कहीं और प्रेस कांफ्रेंस कर रहे हैं लेकिन इस मुद्दे को उठाने के लिए संसद नहीं आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें: कर्नाटक कैबिनेट विस्तार: आज लेंगे 29 मंत्री शपथ, नहीं होगा कोई उपमुख्यमंत्री

Related Articles