घरेलू कंपनियों के नतीजों, विदेशी संकेतों पर शेयर बाज़ार की रहेगी नजर

0

मुंबई। अगले सप्ताह शेयर बाजार की चाल वैश्विक बाजार की चाल पर निर्भर करेगी। इसके अलावा विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) और घरेलू संस्थापक निवेशकों (डीआईआई) द्वारा किए गए निवेश, डॉलर के खिलाफ रुपये की चाल और कच्चे तेल की कीमतों के प्रदर्शन पर भी निवेशकों की नजर रहेगी। कच्चे तेल की वैश्विक कीमतों 75 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर है। इसमें वृद्धि से देश के आयात बिल में बढ़ोतरी होती है। वहीं, इसके साथ ही डॉलर के खिलाफ रुपया लगातार कमजोर पड़ता जा रहा है, इससे भी आयात बिल में बढ़ोतरी होती है।

अगले सप्ताह बंबई स्टॉक एक्सचेंज के 30 प्रमुख शेयरों के संवेदी सूचकांक से वेदांता कंपनी को हटाकर इसकी जगह डॉ. रेड्डीज को रखा जाएगा। वैश्विक मोर्चे पर जापान के व्यापार संतुलन के मई के आंकड़े सोमवार (18 जून) को जारी किए जाएंगे। अप्रैल में जापान का व्यापार अधिशेष 30.9 फीसदी बढ़कर 626 अरब जापानी येन रहा, जो कि एक साल पहले से समान महीने में 478 अरब जापानी येन था।

बैंक ऑफ जापान (बीओजे) अपनी मौद्रिक नीति बैठक के मिनट्स बुधवार (20 जून) को जारी करेगी। बीओजे ने अपनी अप्रैल की बैठक में प्रमुख अल्पकालिक ब्याज दरों को माइनस (-)0.1 फीसदी पर अपरिवर्तित रखा था।
अमेरिका में घरों की बिक्री के मई के आंकड़े बुधवार (20 जून) को जारी किए जाएंगे। पूर्व स्वामित्व वाले घरों की बिक्री में मार्च में माह-दर-माह आधार पर 2.5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी।

बैंक ऑफ इंग्लैंड (बीओई) अपने ब्याज दरों पर गुरुवार (21 जून) को फैसला करेगी। बीओई में बैंक को 0.5 फीसदी पर बनाए रखने के लिए सात में से दो सदस्यों ने वोट किया था यह वोटिंग 10 मई को हुई थी। इंग्लैड में इस साल की पहली तिमाही में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) में तेज गिरावट दर्ज की गई है। जापान का मई का मुद्रास्फीति आंकड़ा शुक्रवार (22 जून) को जारी किया जाएगा। जापान की उपभोक्ता मूल्य मुद्रास्फीति दर अप्रैल में साल-दर-साल आधार पर गिरकर 0.68 फीसदी हो गई जो इसके पिछले महीने 1.1 फीसदी थी।

loading...
शेयर करें