लखीमपुर खीरी हिंसा की जांच करेंगे सेवानिवृत्त HC जज: UP सरकार

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने सोमवार को घोषणा की कि उच्च न्यायालय के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश लखीमपुर खीरी हिंसा की जांच करेंगे और घटना में मारे गए चार किसानों के परिवारों को 45 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने कहा कि सरकार हिंसा में घायल लोगों को 10 लाख रुपये भी देगी।

8 लोगों में 4 किसानों की गई जान

उन्होंने कहा, “किसानों के साथ एक समझौता किया गया है। सरकार रविवार को हुई हिंसा में मारे गए चार किसानों के परिवार के सदस्यों को 45 लाख रुपये देगी। इसके अलावा, उनके परिवार के एक सदस्य को स्थानीय स्तर पर सरकारी नौकरी दी जाएगी।”

आपको बता दें कि हिंसा में 8 लोगों की मौत हो गई थी। मृतकों में चार किसान थे, जबकि शेष भाजपा कार्यकर्ताओं के काफिले में थे, जिनकी पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने जिन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है उनमें केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा भी शामिल हैं।

उत्तर प्रदेश पुलिस के अतिरिक्त महानिदेशक (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार, जो लखीमपुर खीरी में हैं, उन्होंने भारतीय किसान संघ (BKU) के नेता राकेश टिकैत की उपस्थिति में जांच और मुआवजे के संबंध में राज्य सरकार के फैसले की घोषणा की है।

कुमार ने कहा, “अधिकारी अन्य मुद्दों, यदि कोई हो, समाधान के लिए किसानों की एक समिति के संपर्क में रहेंगे।” उन्होंने कहा कि पूरी घटना की पूरी जांच की जाएगी और दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें: Lakhimpur Kheri: योगी सरकार ने नहीं दी CM चन्नी को UP में कदम रखने की अनुमति

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles