अफगानिस्तान से अंतरराष्ट्रीय सैनिकों की वापसी है शर्तों पर आधारित: नाटो प्रमुख

स्टोल्टेनबर्ग सोमवार को ब्रसेल्स में नाटो संसदीय विधानसभा के 66 वें वार्षिक सत्र में बोल रहे थे, जहां उन्होंने कहा कि देश में अपनी उपस्थिति में कमी की घोषणा करने के बावजूद नाटो मिशन अफगानिस्तान में रहेगा,

ब्रसेल्स: नाटो के महासचिव जेन्स स्टोल्टेनबर्ग ने सोमवार को कहा कि नाटो कभी भी दाएश (आईएस आतंकवादी समूह से जुड़े संगठन) को अफगानिस्तान में खुद का पुनर्निर्माण करने की अनुमति नहीं देगा।

अफगान सुरक्षा बलों को समर्थन देना जारी रखेगा नाटो

स्टोल्टेनबर्ग सोमवार को ब्रसेल्स में नाटो संसदीय विधानसभा के 66 वें वार्षिक सत्र में बोल रहे थे, जहां उन्होंने कहा कि देश में अपनी उपस्थिति में कमी की घोषणा करने के बावजूद नाटो मिशन अफगानिस्तान में रहेगा, और वह अफगान सुरक्षा बलों को समर्थन देना जारी रखेगा।

ये भी पढ़ें: पुर्तगाल में अगले साल जनवरी में होगा राष्ट्रपति चुनाव

रक्षा मंत्रियों की अगली बैठक के दौरान की जाएगी नाटो की भविष्य की उपस्थिति की चर्चा

स्टोल्टेनबर्ग ने कहा कि अफगानिस्तान में नाटो की भविष्य की उपस्थिति की चर्चा फरवरी में रक्षा मंत्रियों की अगली बैठक के दौरान की जाएगी।

अफगानिस्तान से अंतरराष्ट्रीय सैनिकों की वापसी शर्तों पर आधारित है

नाटो प्रमुख ने कहा कि अफगानिस्तान से अंतरराष्ट्रीय सैनिकों की वापसी शर्तों पर आधारित है और “हम केवल तभी छोड़ेंगे जब तालिबान समझौते के अपने पक्ष को पूरा कर लेता है।”

अंतराष्ट्रीय सैनिको को तभी छोड़ा जायेगा जब तालिबान अपने समझौते के पक्ष को पूरा कर लेगा।

ये भी पढ़ें: यूपी: सात जिलों के मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित 13 चिकित्सा अधिकारियों के तबादले

Related Articles