अध्ययन के दौरान खुलासा, कोरोना संक्रमण के फैलने का उम्र से कोई लेना-देना नहीं

प्रतीकात्मक
प्रतीकात्मक

नई दिल्ली: कोरोना वायरस को लेकर कई लोगों का मानना है की कम उम्र के लोगों में संक्रमण फैलने का खतरा कम रहता है, जबकि ज्यादा उम्र वाले लोगों में इसका खतरा बढ़ जाता है. अगर आप भी ऐसा ही मानते है तो इस बात पर ध्यान दीजिये. एक अध्ययन के मुताबिक व्यक्ति की उम्र से ये नहीं तय किया जा सकता की उसके संक्रमित होने की कितनी आशंका है. लेकिन इस अध्ययन में ये जरूर कहा गया है ज्यादा उम्र के लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा प्रभावी होता है.

ऐसे में बुजुर्गों की मृत्यु दर ज्यादा होती है. इस दौरान ये भी पाया गया कि इस संक्रमण की तीव्रता, मृत्यु और मृत्यु दर अधिकतर उम्र पर निर्भर करता है.

उम्र से नहीं तय किया जा सकता कोरोना संक्रमण का आंकलन 

वैज्ञानिकों ने इसके लिए जापान, स्पेन और इटली के उपलब्ध आंकड़ों का इस्तेमाल किया. वैज्ञानिकों के इस अध्ययन से ये साफ़ हो गया है की उम्र से बिलकुल ये पता नहीं लगाया जा सकता की व्यक्ति कोरोना संक्रमण का शिकार होगा या नहीं.

इस बातों का गर्भवती महिलायें रखे ख़ास ध्यान

कोरोना संक्रमित गर्भवती महिलाओं के लिए एक अध्ययन में राहत भरी बात निकलकर सामने आई है. अध्ययन के मुताबिक गर्भवती महिलायें कुछ जरूरी एहतियात बरतकर अपने होने वाले बच्चे को इस संक्रमण से बचा सकती है.

 

ये भी पढ़ें- IPL 2020 सीजन में धोनी फ्लॉप लेकिन एक सर्वे में ‘टी 20 किंग’ घोषित

Related Articles