पीलीभीत के विकास खण्डों के विकास कार्यों की गई समीक्षा, श्रम मंत्री ने की अपील

लखनऊः श्रम, सेवायोजन एवं समन्वय विभाग तथा जनपद पीलीभीत के प्रभारी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की अध्यक्षता में सरकार द्वारा संचालित विकास एवं कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन हेतु विकास खण्ड स्तरीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक सम्पन्न की गई। मंत्री द्वारा तीन दिवसीय कार्यक्रम के अन्तर्गत प्रत्येक विकास खण्ड में योजनाओं की समीक्षा खण्ड स्तरीय अधिकारियों के साथ की जायेगी।

प्रथम दिवस में आज मंत्री द्वारा विकास खण्ड मरौरी, ललौरीखेडा, अमरिया विकास खण्ड में विकास एवं कल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा की गई। श्रम मंत्री द्वारा ब्लाक खण्डों से सबंधित मुख्यमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, पेंशन, निःशुल्क राशन वितरण, विद्युत आपूर्ति, कोविड टीकाकरण, स्वास्थ विभाग द्वारा संचालित योजनायें, पशु टीकाकरण, मनरेगा, सामूहिक विवाह, वृक्षारोपण, जल संरक्षण,मिशन कायाकल्प, सार्वजनिक शौचालय, स्वच्छ भारत मिशन,पंचायत भवन, आयुष्मान कार्ड सहित विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की गई।

समीक्षा के दौरान मंत्री ने दिए कड़े निर्देश

समीक्षा के दौरान मंत्री ने समस्त अधिकारियों को कडे निर्देश देते हुए कहा कि विभाग द्वारा संचालित योजनाओं को समय से पूर्ण किया जाये। मनरेगा समीक्षा के दौरान उन्होंने संबधित अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि योजना के अन्तर्गत बडे बडे तालाबों का सौन्दर्र्यीकरण का कार्य वृहत स्तर पर कराया जाये, जिससे अधिक से अधिक श्रमिकों को कार्य उपलब्ध कराया जा सके ।

सार्वजनिक शौचालय के सबंध में निर्देश

तालाबो के किनारे मनरेगा के माघ्यम से वृहत वृक्षारोपण का कार्य भी कराया जाये। सार्वजनिक शौचालय के सबंध में निर्देशित करते हुए कहा कि जो शोैचालय संचालित नही है, उसे स्वयं सहायता समूहों के माघ्यम से संचालित किया जाये। पंचायत के निर्माण कार्याे को तेजी से कराने के निर्देश दिये। मिशन कायाकल्प की समीक्षा के दौरान बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि मरौरी ब्लाक प्रदेश का प्रथम ब्लाक है जो कायाकल्प के समस्त मानकों से सभी विधालयों को संतृप्त किया जा चुका है।

विकासखण्ड में 20 मानक अवशेष

ललौरीखेडा विकासखण्ड में 20 मानक अवशेष है, जिन्हे शीघ्र ही पूर्ण कराकर संतृप्त करा लिया जायेगा। मंत्री ने कहा पीलीभीत जनपद कृषि प्रधान के साथ साथ प्राकृतिक सौन्दर्ययुक्त जनपद है, यहां कृषि की विशेष परिस्थतियां पायीं जाती है, काला धान के उत्पादन को बढ़ावा दिया जाये, जो उत्पादन योग्य क्षेत्र हैं।

 

Related Articles