बलिया गोलीकांड के आरोपियों पर इनामी राशि घोषित, मुख्य आरोपी अभी भी फरार

बलिया गोलीकांड में आरोपियों पर इनामी राशि घोषित, मुख्य आरोपी अभी भी फरार

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में हुए गोलीकांड में आरोपियों पर इनामी राशि घोषित कर दी गई है। पुलिस ने बलिया गोलीकांड के मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह समेत 6 फरार आरोपियों के खिलाफ 25-25 हजार रुपये की इनामी राशि घोषित कर दी गई है। बता दें कि रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में हुई घटना पर एसपी बलिया ने 15 अक्टूबर को फरार आरोपियों पर इनाम राशि घोषित की है।

धीरेन्द्र ने गोली न चलाने का किया दावा

घटना के मुख्य आरोपी धीरेन्द्र सिंह ने घटना की उचित मांग करते हुए एक वीडियो जारी किया था, जिसमे उसने दावा किया था। कि उसने कोई गोली नहीं चलाई। मुख्य आरोपी धीरेन्द्र ने अपने बयान में कहा था, कि 15 अक्टूबर को राशन की दुकानों का आवंटन होने के कारण कई अधिकारी आवंटन प्रक्रिया में शामिल हुए थे। आवंटन प्रक्रिया को लेकर मैंने एसडीएम और बीडीओ से मुलाकात की थी।

अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के लगाए आरोप

धीरेंद्र प्रताप ने अपने बयान में कहा कि उसने अधिकारियों को जानकारी दी थी कि क्षेत्र में चीजें काफी खराब थीं। आवंटन प्रक्रिया को प्रभावित करने का आरोप लगाते हुए धीरेन्द्र ने एसडीएम, बीडीओ और अन्य अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगाए। धीरेंद्र प्रताप ने घटना के लिए पुलिस और प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया।

बीजेपी विधायक के बेतुके बयान, सरकार की हो रही किरकिरी

प्रदेश में प्रशाशन व्यवस्था को लेकर सरकार की लगातार किरकिरी हो रही है। साथ ही इस मामले में बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह के बयान ने विपक्ष को जुबानी हमला करने के मौके दे दिए है। बता दें की बीजेपी विधायक ने अपने बयान में कहा था, कि धीरेंद्र प्रताप सिंह ने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी। जिसके बाद से बीजेपी प्रशाशन और अपने नेताओ के बयानों को लेकर सवालों के घेरे में खड़ी है।

बलिया गोलीकांड में एडीजी के निर्देश पर पुलिस अधीक्षक (S.P) ने तीन सब इंस्पेक्टर, पांच कॉन्स्टेबल और दो महिला कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें: न्यूजीलैंड प्रवासियों को मिला ऑस्ट्रेलियाई सीमा में प्रवेश, कोरोना के कारण नहीं मिली थी इजाज़त

Related Articles

Back to top button