ममता सरकार और सीबीआई के जंग में निदेशक ऋषि कुमार शुक्ला को मिला कार्यभार

0

नई दिल्ली । इनदिनों लोकसभा चुनाव 2019 के चलते जहां राजनीति अपने चरम पर है। वहीं पश्चिम बंगाल सरकार और सीबीआई के रिश्ते भी कुछ ठीक नहीं है। इसी तनातनी के बीच ऋषि कुमार शुक्ला को सीबीआई का नया डायरेक्टर बना दिया गया है। जानकारी के मुताबिक मध्यप्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक ऋषि शुक्ला 1983 बीच के आईपीएस आधिकारी हैं।

बता दें कि उनके नाम की घोषणा शनिवार को की गई थी। ऋषि कुमार जिस दिन से पदभार संभालेंगे  उसी दिन से 2 साल के लिए वे सीबीआई के निदेशक रहेंगे। हालांकि पीएम मोदी की अगुआई वाली चयन समिति में शामिल कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने पीएम को पत्र लिखकर नियुक्ति पर आपत्ति जताई थी। उन्होंने कहा है कि शुक्ला को भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों की जांच का जरा-शा भी ज्ञान नहीं है।

ऋषि कुमार शुक्ला ग्वालियर के रहने वाले हैं। बीकाम तक पढ़ाई करने के बाद 1983 में वे भारतीय पुलिस सेवा में आए थे। उनकी शुरुआती पोस्टिंग सीएसपी रायपुर में हुई थी। वे दमोह, शिवपुरी और मंदसौर जिले के एसपी रहे हैं। इसके अलावा 2009 से 2012 तक एडीजी इंटेलिजेंस के पद पर भी कम किया है। उसके बाद जुलाई, 2016 से जनवरी, 2019 तक मध्यप्रदेश के डीजीपी थे।

आपको बता दें कि सीबीआई के दो आला अधिकारियों की आपसी खींचतान के बीच आलोक वर्मा को निदेशक पद से हटाए जाने के बाद 10 जनवरी से यह पद खाली पड़ा था। सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा और सीबीआई के ही पूर्व स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना की लड़ाई के बाद सीबीआई सुर्खियों में छाई हुई थी। सीबीआई के दोनों अधिकारियों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। आलोक वर्मा के हटाए जाने के बाद से एम नागेश्वर राव अंतिम सीबीआई प्रमुख के तौर पर काम कर रहे थे। अंतरिम निदेशक के तौर पर राव की नियुक्ति के खिलाफ दायर याचिका सुप्रीम कोर्ट में फिलहाल लंबित है

loading...
शेयर करें