आगरा में भरी बारिश से सड़कें बनी नदियां, फिरोजाबाद में मौत

0

आगरा: आगरा में मानसून की शुरुआती बारिश ही अब आफत बनकर बरस रही है। सोमवार की शाम ने जहां सबको भिगो दिया। वहीं मंगलवार की सुबह भी बारिश तेजी से आई, और रुक रुककर हो रही बारिश से पूरा ब्रज सराबोर हो गया है। जल निकासी न होने के कारण सड़़कें तालाब में तब्दील हो गई हैं। सबसे ज्यादा बुरे हाल तो फिरोजाबाद में हैं, जहां कई इलाकों में जलभराव हो गया है। फिरोजाबाद में सोमवार को डेढ़ घंटे की बारिश ने फिर से नगर निगम के दावों पोल खोल दी। झमाझम बारिश से शहर की गलियां ताल तलैया बन गईं। निचले इलाकों में पानी इतना भर गया कि रास्ता निकलना मुश्किल हो रहा था। सड़कों पर तो ये हाल था गाड़ी को धक्का देकर पानी से निकाला आधे से ज्यादा शरीर तो पानी में ही डूबा हुआ था। सड़कें और कॉलोनी में ही नहीं, जिला अस्पताल परिसर भी जलमग्न हो गया। मरीजों को पानी से होकर दवा लेने जाना पड़ा तो सर्विस रोड पर भी पानी भर गया।थाना टूंडला क्षेत्र में जलोपुरा रोड पर बारिश के कारण एक कारखाने की दीवार भर-भराकर गिर गई। दीवार के नीचे दबने से दो किशोर सुमित (16) और अभिषेक (15) की मौत हो गई। जबकि तीन गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया। फिरोजाबाद के किशन नगर में मकान की दीवार गिरने से महिला सहित तीन लोग घायल हो गए। आगरा में मंगलवार सुबह से खुशनुमा मौसम बना हुआ है। सुबह 10 बजे से रिमझिम बारिश होने लगी है। रिमझिम बारिश में ताजमहल सहित ऐतिहासिक इमारतों में पर्यटक मौसम का लुत्फ उठाते नजर आए। हालांकि शहर के कई इलाकों में जलभराव होने के कारण लोगों का परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।मौसम के रुख से किसानों के चेहरे खिल गए। तीन दिन से हो रही बरसात के बाद किसानों को मिर्च की खेती में अधिक लाभ होने की उम्मीद जग गई है। बरसात से उन किसानों को नुकसान का सामना करना पड़ सकता है जिनके खेतों में मक्का पकी हुई खड़ी है। धान के लिए यह बरसात अमृत के समान मानी जा रही है।

loading...
शेयर करें