जानकीपुरम गार्डेन में रामायण के बाद हुआ रुद्राभिषेक, भगवान शिव का हुआ भव्य श्रृंगार

लखनऊ: महादेव का प्रिय महीना सावन का महीना चल रहा है। सावन के माह में हर सोमवार सभी शिव भक्त बेल पत्र, भांग, धतूरा, जल व दूध चढ़ाते है। पवित्र महीना सावन के तीन सोमवार गुजर चुके हैं और सावन के चौथा बिता हुआ अंतिम सोमवार को सभी शिवालयों पर बम बम भोले के जयकारे लगे तो कही पर रुद्राभिषेक कराया गया।

राजधानी लखनऊ के जानकीपुरम गार्डेन में अंतिम सोमवार को बालक राम मंदिर में रुद्राभिषेक कराया गया। इस रुद्राभिषेक में मुन्ना वर्मा, सुशील सिंह व एचएन पांडे मुख्य रूप से समिलित होकर भगवान शिव की आराधना की, जिसमे पुजारी पंडित मयंक शास्त्री ने रुद्राभिषेक पाठ किया। शिवलिंग पर मंत्रोचारण के साथ दूध, दही शहद से नहलाकर दूध व जल से अभिषेक किया।

 

इसके बाद भस्म आरती के बाद भगवान शिव का विशेष शृंगार हुआ, उन्हें विशेष कपड़े की पगड़ी पहनाई गई। वहीं, पांच प्रकार के फूल सूरजमुखी, बेला, कमल, कनेर और गेंदा से भगवान शिव का भव्य पुष्प शृंगार हुआ। शिवलिंग पर शमी का फूल, धतूरा और बेल पत्र भी चढ़ाया गया। रुद्राभिषेक के बाद शाम को महाआरती हुई।

 

मड़ियांव गांव के पूर्व पार्षद मुन्ना वर्मा, सुशील सिंह, एचएन पांडे, आरसी नायक व अनिल कुमार श्रीवास्तव व जानकीपुरम गार्डन वासियों के सहयोग से सावन के अंतिम सोमवार को जानकीपुरम गार्डेन में बालक राम मंदिर पर अखंड रामायण के बाद रुद्राभिषेक यज्ञ का समापन हुआ। जिसमें गार्डन वासियों के कल्याण हेतु मंगल कामना की गई। रुद्राभिषेक के पश्चात कन्या भोज भी कराया गया।

 

Related Articles