रूस ने गूगल के खिलाफ दर्ज कराया मामला, खतरनाक सामग्री को 30 फीसदी तक को हटाने में विफल

रूस ने गूगल के खिलाफ दर्ज कराया मामला, 50 लाख तक का रूबल जुर्माना

मॉस्को: रूस के सरकार ने अमेरिका स्थित सर्च इंजन गूगल के खिलाफ प्रतिबंधित सामग्री को हटाने में विफलता को देखते हुए एक मामला दर्ज कराने का निश्चय किया है। कम्युनिकेशन वाचडॉग रोस्कोमनद्जर ने यह जानकारी दी। वॉचडॉग के अनुसार, गूगल ‘खतरनाक सामग्री’ को 30 फीसदी तक को हटाने में विफल रहा था।

गल्फ न्यूज की जानकारी

कुछ लोगों ने कहा कि यह चरमपंथी, अश्लील और आत्मघाती था। गल्फ न्यूज ने बताया कि इसलिए रूसी सरकार ने ‘प्रशासनिक कार्रवाई को शुरू किया तथा इस बारे में अदालती मामले और 50 लाख रूबल (65,670 अमेरिकी डॉलर) तक के जुर्माने संबंधी मामला दर्ज कराया है।

कंपनियों को देश में चुनौतियां

रूस में स्थित गूगल ने अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं व्यक्त की है। प्रतिबंधित सामग्री को रोकने में असफल पाए जाने के बाद, अगस्त में गूगल पर रूसी अदालत ने 1.5 मिलियन रूबल का जुर्माना लगाया था, जबकि अन्य वैश्विक तकनीकी कंपनियों को देश में चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

मसौदा कानून

पिछले हफ्ते सांसदों ने मसौदा कानून पेश किया जो सरकार को रूसी सोशल मीडिया आउटलेट्स के साथ भेदभाव करने के लिए समझे जाने वाले अमेरिकी सोशल मीडिया प्लेटफार्मों तक इंटरनेट की पहुंच को प्रतिबंधित करने की अनुमति दे सकता है।

यह भी पढ़े:किसानों के दिल्ली कूच के कारण हरियाणा सरकार ने बंद किया पंजाब बॉर्डर

यह भी पढ़े:ओवैसी ने रोहिंग्या मुद्दे पर अमित शाह पर साधा निशाना, कहा- मुझे 1000 रोहिंग्या मतदाताओं के नाम बताएं

Related Articles