उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बोर्ड से सचिन बंसल ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली: देश की बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट के को-फाउंडर सचिन बंसल ने उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक के स्‍वतंत्र निदेशक पद से इस्‍तीफा दे दिया. बैंक ने इसकी जानकारी बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज को दी है. सचिन बंसल ने अपने इस्तीफा पत्र में कहा कि बैंक ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) को यूनिवर्सल बैंकिंग लाइसेंस के लिए आवेदन किया है. ऐसे में यह कॉरपोरेट गवर्नेंस के हित में है, इसलिए मुझे इस्तीफा दे देना चाहिए.

अपने इस्तीफे पत्र में, बंसल ने कहा कि उन्होंने कॉर्पोरेट गवर्नेंस के हितों को ध्यान में रखकर इस्तीफा दिया है, क्योंकि उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) को यूनिवर्सल बैंकिंग लाइसेंस के लिए आवेदन किया है. पत्र में सचिन बंसल ने बोर्ड मेंबर्स को संबोधित करते हुए लिखा है, ‘मैं 27 जनवरी 2020 से बैंक के एक स्वतंत्र निदेशक के रूप में इस्तीफा देना चाहता हूं. मेरे स्वामित्व वाली एक इकाई ने यूनिवर्सल बैंकिंग लाइसेंस के लिए RBI को एक आवेदन किया है. ऐसे में मुझे लगता है कि नैतिकता और कॉरपोरेट गवर्नेंस के हित में ये उचित है कि मैं अपने पद को छोड़ दूं. सचिन बंसल ने स्‍पष्‍ट किया है कि उन्होंने किसी और वजह से इस्‍तीफा नहीं दिया है.

बता दें कि सचिन बंसल अपनी कंपनी नवी टेक्नोलॉजीज के माध्यम से फाइनेंसल सर्विस सेक्टर पर फोकस कर रहे हैं. मई 2018 में फ्लिपकार्ट से निकलने के बाद बंसल ने नवी टेक्नोलॉजीज की स्थापना की थी. इसकी माइक्रो फाइनेंस कंपनी चैतन्य इंडिया फाइनेंस क्रेडिट प्राइवेट लिमिटेड  ने यूनिवर्सल बैंकिंग लाइसेंस के लिए आवेदन किया है.

चैतन्य की शुरुआत 2009 में हुई थी. कर्नाटक, बिहार, महाराष्ट्र, राजस्थान और झारखंड में इसकी 40 शाखाएं हैं. फ्लिपकार्ट के को-फाउंडर सचिन बंसल ने सितंबर 2019 में 739 करोड़ रुपए में चैतन्य को खरीदा था.

Related Articles