नेता बनते ही साध्वी प्रज्ञा के बिगड़े बोल, कहा- 26/11 हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे को दिया था मैंने श्राप, मिली कर्मों की सजा

0

मध्यप्रदेश (MP) की भोपाल (Bhopal ) संसदीय सीट से भारतीय जनता पार्टी(BJP)ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ( Pragya Singh Thakur ) को को पार्टी का उम्मीदवार घोषित कर दिया. जिसके बाद सियासी गलियारे में हलचल मचना शुरू हो गया. वहीं बयानबाजी का भी सिलसिला तेजी बढ़ने लगा है. इसी दौरान साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के एक विवादित बयान से फिर से बवाल मच गया है. साध्वी प्रज्ञा ने 26/11 के आतंकी हमले में शहीद हुए ATS चीफ हेमंत करकरे को लेकर कहा कि, वो अपने कर्मों की वजह से मरे हैं. उन्होंने मुझे गलत तरीके से फंसाया था.

बता दें कि इससे पहले भी साध्वी प्रज्ञा ने कई बार कहा है कि मुझे हेमंत करकरे ने गलत तरीके से फंसाया था. इसी के साथ उन्होंने गुरुवार को कांग्रेस पर हिंदू विरोधी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने हिंदुओं को आतंकवाद से जोड़ते हुए एक महिला को प्रताड़ित किया. मालेगांव बम विस्फोट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ने कहा, “एक महिला को किस तरह से प्रताड़ित किया गया, कानून का किस तरह से उल्लंघन किया गया, यह सब षड्यंत्रपूर्वक हुआ है। इन मुद्दों को लेकर वह जनता के बीच जाउंगी.

राजधानी के मानस भवन में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में साध्वी प्रज्ञा ने कहा था, मैं कभी भी विवादों में नहीं रही, मेरे खिलाफ साजिश रची गई. मालेगांव बम विस्फोट मामले में गिरफ्तार किए जाने के बाद मुझे प्रताड़ित किया गया. रात-रात भर पीटा जाता था, कई कई दिन सिर्फ पानी के सहारे काटने पड़े हैं. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह प्रताड़ना के सबूत मांग रहे हैं तो उन्होंने कहा, “यह अच्छी बात है कि वह (दिग्विजय) स्वयं यह कह रहे हैं, सबूत भी उन्हें मिल जाएंगे, निश्चित रूप से मिलेंगे.

गौरतलब हो कि 26/11 के आतंकी हमले में आतंकियों से लोहा लेते (Mumbai Police) महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख हेमंत करकरे, पुलिस अधिकारी विजय सालस्कर, आईपीएस अशोक कामटे और कॉन्स्टेबल संतोष जाधव शहीद हो गए. कई घंटों तक चली मुठभेड़ में आखिरकार राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड्स (एनएसजी) (National Security Guards) ने 9 आतंकियों को मार गिराया और 10वें आतंकी अजमल कसाब को जिंदा पकड़ लिया गया.

loading...
शेयर करें