साध्वी प्रज्ञा का उमर अब्दुल्ला पर पलटवार, बस चलता तो फांसी पर लटकवा देते ये लोग

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से टिकट दिए जाने पर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है. गुरुवार को श्रीनगर में एक मतदान केंद्र पर वोट डालने पहुंचे उमर अब्दुल्ला  ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ‘बीजेपी ने एक ऐसे उम्मीदवार को टिकट दिया है, जो न केवल किसी आतंकी मामले का आरोपी है, बल्कि स्वास्थ्य आधार पर जमानत पर बाहर है.’ अब्दुला ने कहा कि चुनाव लड़ने के लिए साध्वी प्रज्ञा की सेहत ठीक है? अगर उनकी तबियत ठीक है तो फिर जेल में डालो. वह आतंकवाद की आरोपी हैं. उनके खिलाफ ट्रायल चल रहा है.

उमर अब्दुला ने कहा कि अगर साध्वी प्रज्ञा की स्वास्थ्य स्थिति उन्हें जेल में रहने की अनुमति नहीं देती है, तो उन्हें यह चुनाव लड़ने की अनुमति कैसे मिल सकती है? अब्दुला ने कहा जब बीजेपी के पास जब कुछ नहीं रहता तो वे मजहब का कार्ड खेलने लगते हैं. मंदिर-मस्जिद पर उन्हें वोट मिलेंगे नहीं. ऐसे में उन्होंने एक ऐसे शख्स को टिकट दिया जो न सिर्फ आतंकवाद के केस में आरोपी है, बल्कि बेल पर है.

वहीं साध्वी प्रज्ञा ने उमर अब्दुल्ला के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि गनीमत है कि उन्होंने ये नहीं कहा कि साध्वी को तत्काल फांसी पर लटका देना चाहिए, क्योंकि इनका षड्यंत्र तो यही था. साध्वी प्रज्ञा ने स्वास्थ्य के आधार पर बेल मिलने के उमर के दावे पर भी पलटवार करते हुए कहा कि मुझे स्वास्थ्य के आधार पर बेल नहीं मिली है. उन्होंने कहा कि उमर अब्दुल्ला को अपनी जानकारी ठीक करनी चाहिए, मुझे स्वास्थ्य के आधार पर जमानत नहीं मिली है.

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर मालेगांव धमाकों के बाद सुर्खियों में आईं. बीजेपी ने भोपाल से साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को अपना उम्मीदवार बनाया है. वह कांग्रेस उम्मीदवार और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को चुनौती देंगी.

Related Articles