सहारा समूह ने सुप्रीम कोर्ट में सेबी के खिलाफ दायर की याचिका

सहारा समूह की दो कंपनियों ने भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

नई दिल्ली: सहारा समूह की दो कंपनियों ने भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। दोनों कंपनियों ने सेबी द्वारा उनसे 62602 करोड़ रुपए की मांग करने के मामले में सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका दायर की है। सेबी ने 10 दिन पहले सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर किया था, जिसमे कहा गया कि सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय और सहारा समूह की दो कंपनियां रकम जमा करने के अदालती आदेशों का लगातार उल्लंघन कर रही हैं। ये दो कंपनियां है, सहारा इंडिया रियल इस्टेट कॉरपोरेशन लिमिटेड (एसआईआरईसीएल) एवं सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड (एसएचआईसीएल)

ये भी पढ़े : केंद्र सरकार के पास जीएसटी क्षतिपूर्ति का भुगतान बकाया: हेमन्त

सहारा समूह ने कोर्ट में दायर याचिका में कहा सेबी का 62,602 करोड़ रुपये की मांग करना न सिर्फ अवमाननापूर्ण कदम है बल्कि शीर्ष अदालत के निर्देशों की अनदेखी करने का गलत प्रयास है। सेबी की कंपनियों से 62,602 करोड़ रुपये की मांग शीर्ष अदालत के 6 फरवरी, 2017 के आदेश का उल्लंघन है। सहारा का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में निर्देश दिया था कि वह मूल राशि के संबंध में चिंतिंत है और ब्याज के मुद्दे पर बाद में संज्ञान लिया जाएगा, लेकिन निर्देशों की अवहेलना करते हुए सेबी ने ब्याज राशि को भी शामिल किया है।

 

Related Articles

Back to top button