राम मन्दिर निर्माण ने होने से आत्मदाह की धमकी देने महंत गिरफ्तार 

0

नई दिल्ली। देश में मौजूदा समय का सबसे गरम मुद्दा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण है। इस मामले में रोज कुछ न कुछ नया सुनने को मिल रहा है। राजनीति इस मामले में बड़े स्तर पर हो रही है। इसी बीच एक स्वामी जी ने राम मन्दिर के निर्माण न होने की वजह से आत्मदाह की धमकी देकर मामले को और तूल दे दिया। फिलहाल स्वामी जी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

बता दें कि स्वामी जी ने 6 दिसंबर को आत्मदाह की धमकी दी थी। स्वामी जी परमहंस दास नाम से जाने जाते है। पुलिस ने महंत को जेल भेज दिया है। पुलिस ने यह कार्रवाई आत्महत्या के प्रयास, शांति भंग और माहौल खराब करने के आरोप के तहत की है।

आपको बताते चले कि तापसी छावनी के महंत स्वामी परमहंस दास ने राम मंदिर निर्माण के लिए बाबर विचारधारा विध्वंस महायज्ञ करने के साथ ऐलान किया था उन्होंने ने कहा था कि सीतामढ़ी से लाई मिट्टी से तिलक करके वह 6 दिसंबर की दोपहर 12:00 बजे आत्मदाह कर लेंगे। उन्होंने कहा था कि बाबर विचारधारा विध्वंस महायज्ञ का उद्देश्य बाबर की विचारधारा रखने वाले 2 फीसदी कट्टर मुस्लिमों की बुद्धि शुद्धि के लिए था।

संत यही तक नहीं रूके उन्होंने कहा कि अगर प्रशासन किसी प्रकार की कार्यवाही करता है तो मै जेल से वापस आने के बाद बताउंगा की मेरी अगली रणनीति क्या होगी। उन्होंने चेताया था कि अगर 5 दिसंबर तक अगर कोई ठोस आस्वासन नहीं मिला तो 6 दिसंबर तक मैं आत्मदाह कर लूंगा।

बता दें कि राम मंदिर निर्माण के लिए तापसी छावनी के महंत स्वामी परमहंस दास 1 अक्टूबर को आमरण अनशन पर बैठे थे। उस वक्त महंत जी को लखनऊ के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिसके बाद उनकी हालत में सुधार देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 12 दिसंबर को उन्हें मिलने के लिए बुलाया और जूस पिलाकर उनका अनशन खत्म कराया था।

loading...
शेयर करें