सलमान खान की कहानी पिता सलीम की जुबानी …

मुंबई। सलमान खान के 50th बर्थ-डे पर उनके पिता और स्क्रिप्ट राइटर सलीम खान लिखते हैं कि अब तक जितने रुपए कमाए हैं, उससे ज्यादा दोस्त बनाए हैं सलमान ने।

3947962758

मैं जानता हूं कि सलमान बेहतर इंसान होने की कोशिश करता है, लेकिन उसमें कुछ दोष भी हैं। बहुत मूडी होना ठीक नहीं है। आज से पहले मैंने सलमान की तारीफ में कुछ नहीं लिखा, लेकिन आज मैं पहली बार सार्वजनिक रूप से उसके बारे में कुछ शेयर कर रहा हूं।

मुझे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों की अज्ञानता पर हंसी आती है। एक बार इंटरव्यू के लिए आई महिला काफी देर तक मुझे सलीम जावेद कहकर संबोधित करती रहीं। उन्हें बताना पड़ा कि ये दो लोग हैं। हाल ही में मुंबई हाई कोर्ट ने सलमान को निर्दोष करार दिया। तब सारे पत्रकार मुझसे पूछते थे कि आपको कैसा लग रहा है? मैंने झुंझलाकर कहा कि मैं अपनी इमारत की आठवीं मंजिल पर नाचूं या कूदकर आत्महत्या करूं! कोई भी पिता अपने बेटे के निर्दोष सिद्ध किए जाने से खुश ही होगा! उस दिन मैंने परिवार से कहा कि आज जश्न नहीं मनाया जाएगा। यह ऊपरवाले को धन्यवाद कहने का दिन है।

मैंने और सलमा ने हमेशा अपने बच्चों से कहा है कि कामयाब होने से जरूरी है अच्छा इंसान बनना। अगर बच्चों से कोई भूल होती है तो हमें अपनी तरबियत पर दुख होता है। मेरे पिता राशिद खान ने जो तरबियत हमें दी है, वही मैंने भी अपने बच्चों को देने की कोशिश की है। हम कितने सफल होते हैं,उससे जरूरी है कि क्या हम बेहतर इंसान बन सके हैं। मेरे सीनियर महान निर्देशक महेश कौल ने मुझे सूर्य प्रार्थना का एक श्लोक समझाया था। मैं उसी पर अमल करता हूं। उसका अर्थ है कि हे सूर्यदेवता, मैं तुझे नमन करता हूं और कल बेहतर इंसान बनकर आने का वचन देता हूं।

छत से गिरा, प्लास्टर चढ़ा, सीखी पेंटिंग

सलमान ग्वालियर के स्कूल से छुट्टियों में घर लौटा, तब मैं उसे सर्कस दिखाने ले गया। एक करतब दोहराने के प्रयास में वह गैराज की छत से गिर गया। उसे प्लास्टर बांधा गया। मैंने उससे कहा कि उसने छुट्टियां बर्बाद कर ली हैं। कुछ भी करने से पहले सोचना चाहिए। वह अपने प्लास्टर पर अजीबोगरीब चित्र बनाता था। यहीं से पेंटिंग की शुरुआत हुई।

सलमान बांद्रा के कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ता था। शरारती होने के कारण फादर एलियो उसे खूब दंडित करते थे। कुछ वर्षों बाद फादर एलियो अपने देश इटली में बस गए। अब तक सलमान सितारा हो गया था। वह लंदन में शूटिंग कर रहा था। उसके एक मित्र ने उसे बताया कि फादर एलियो बीमार हैं और उन्हें पैसों की जरूरत है। सलमान ने उसी समय फादर को पैसे भिजवाए और संदेश भी दिया कि शूटिंग खत्म होते ही वह स्वयं भी उनकी सेवा के लिए आएगा। जब वह फादर से मिलने पहुंचा तो उनका निधन हो गया था। फिर वह उनके जनाजे में शामिल हुआ।

सेट पर लेट, मगर मदद में सबसे आगे

सलमान ने कभी इस पर गौर नहीं किया कि उसके पास कितना धन है। उसकी तो जिद है कि उसकी सारी कमाई गरीबों के इलाज और तालीम पर खर्च हो, परंतु मैं उसे समझाइश देता हूं कि कमाई के चौथाई को भलाई के काम में लगाओ। इस्लाम में इसे जकात कहते हैं। हिन्दुओं में बहीखाते में वही लाभ शुभ होता है जिसका एक चौथाई दान में दिया जाता है। सलमान नहीं जानता कि उम्रदराज होने पर पैसे की कितनी जरूरत होती है। मुझे खुशी है कि सलमान ने जितना धन कमाया, उससे अधिक दोस्त बनाए हैं और वह यारों का यार है। एक बार डेविड धवन ने कहा था कि सलमान सेट पर हमेशा देर से आता है, परन्तु कोई दोस्त मुश्किल में फंसा हो तो वहां सबसे पहले जाता है।

Sajid Nadiadwala : कई साल पहले दोनों दिसंबर में एक ही मंडप में शादी करने वाले थे। सलमान सोमी अली और साजिद तबु से। ऐसा नहीं हुआ। सलमान कहते हैं, “कभी भी ज़रूरत पड़ी तो मैं सिर्फ साजिद से कितने भी पैसे मांग सकता हूं।’

David Dhawan : सलमान की वजह से उन्हें हिट डायरेक्टर का टैग मिला। “दबंग’ के क्लाइमैक्स पर जब पिता सलीम खान और निर्देशक अिभनव कश्यप के बीच बात बंद हो गई तो सलमान के कहने पर डेविड ने ही यह मसला सुलझाया।

Nadeem : बांद्रा में रहने वाले सलमान के बेस्ट फ्रेंड। बीइंग ह्यूमन का टैटू गुदवा रखा है। संजय दत्त के भी वे करीबी दोस्त हैं।

Raj Babbar : हर दूसरे-तीसरे दिन दोनों की फोन पर बात होती है। कुछ साल पहले राज ने डिंपल यादव के खिलाफ चुनाव लड़ा तो सलमान उनके लिए सभा करने वाले थे। सभा से पहले आधी रात को बोनी कपूर, अमर सिंह अपने दोस्त मुलायम सिंह की तरफ की बात लेकर पहुंचे। लेकिन सलमान ने सभा कैंसिल नहीं की।

 

 

(दैनिक भास्कर साभार)

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button