जब संता ने अपनी बीवी से कहा…

0

संता अपनी बीवी से – मैं तुमसे बहुत तंग आ चुका हूँ,

बीवी – क्यों ? अब मैंने क्या किया?

संता – भगवान के लिए तो चुप हो जाओ,

क्योकि मुझे अब ‘शांति’ के साथ रहना है,,,

बोवी -हाँ हाँ मुझे भी अब नहीं रहना तुम्हारे साथ,

मई भी ‘अमन’ के साथ रहूंगी

बेचारा संता बेहोश

संता को बुरी तरह दस्त लग गए

संता – क्या करूँ ऐसी तैसी हो गयी है

बीवी – आजवाइन ले लो ना आज

संता – ठीक है तू कहती है तो ले लेता हूँ
रात को संता दारू पी के आया

बीवी – कमबख्त ये क्या हाल बना लिया

संता – तू मुझे बरबाद करके रहेगी,
सुबह तो खुद बोल रही थी कि –
“आज वाइन ले लो

संता – आज मैंने अपनी बीवी को वाचमैन के साथ पिक्चर देखने जाते हुए देखा
बंता- तुम उनके पीछे नहीं गए ?
संता – नहीं यार, दरअसल वो पिक्चर मेरी देखी हुई थी

पत्‍नी- क्‍यों जी रोज सुबह मेरे चेहरे पे पानी क्‍यों डालते हो
पति- क्‍योंकि तुम्‍होर पिताजी ने कहा था
मेरी बेटी फूल की तरह है इसे मुरझाने मत देना

loading...
शेयर करें