संतकबीरनगर: मुलायम के कार्यक्रम से पहले सपा नेता सुनील सिंह गिरफ्तार

काफी देर बाद अधिकारियों से निर्देश प्राप्त होने पर सुनील सिंह को हिरासत में लेकर पुलिस लाइन लाया गया और अपर पुलिस अधीक्षक संजय कुमार तथा अपर जिला मजिस्ट्रेट मनोज कुमार सिंह ने घण्टों पूछताछ की।

संतकबीरनगर: उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली हिंदू युवा वाहिनी को छोड़कर समाजवादी पार्टी (सपा) में शामिल हो चुके पूर्वांचल के चर्चित नेता सुनील सिंह को महामारी एक्ट के उल्लघंन के आरोप में रविवार रात उस समय गिरफ्तार कर लिया जब वह खलीलाबाद के निकट ग्राम बड़गो में सोमवार को होने वाले ‘मुलायम सिंह यादव अध्ययन केन्द्र’ के उद्घाटन कार्यक्रम की तैयारियों में लगे थे।

पुलिस ने उन्हें सीआरपीसी की धारा 151, भादवि की धारा 188 एवं महामारी अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया है। देर रात उन्हें किसी अन्य थाने में भेज दिया गया। अपर जिलाधिकारी मनोज कुमार सिंह ने यह जानकारी दी है।

हिंदू युवा वाहिनी से नाता तोड़ समाजवादी पार्टी में शामिल हुए सुनील सिंह

उल्लेखनीय है कि योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में हिंदू युवा वाहिनी के संस्थापक सदस्य एवं वाहिनी के प्रांतीय अध्यक्ष रहे सुनील सिंह कुछ महीने पूर्व हिंदू युवा वाहिनी से नाता तोड़ कर समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं। समाजवादी पार्टी में अपनी मजबूत पकड़ बनाने के लिए उन्होंने संतकबीरनगर जिले को केन्द्र बना कर अपनी सक्रियता तेज कर दी है।

इस दौरान उन्होंने संतकबीरनगर में 21 दिसंबर को ‘मुलायम सिंह यादव अध्ययन केन्द्र’ की स्थापना की घोषणा कर दी जिसका वर्चुअल उद्घाटन सपा अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा किया जाना था और इस कार्यक्रम में पूर्वांचल के कई दिग्गज नेताओं के शामिल होने की संभावना थी। आज शाम सुनील सिंह उक्त कार्यक्रम की तैयारियों में लगे थे।

सीओ ने अधिकारियों से निर्देश पाकर सुनील सिंह को हिरासत में ले लिया

इस बीच सूचना पर मौके पर मयफोर्स पहुंचे सीओ सदर गया दत्त मिश्र ने लगभग एक घंटे तक पूछताछ की और अधिकारियों से बात की। काफी देर बाद अधिकारियों से निर्देश प्राप्त होने पर सुनील सिंह को हिरासत में लेकर पुलिस लाइन लाया गया और अपर पुलिस अधीक्षक संजय कुमार तथा अपर जिला मजिस्ट्रेट मनोज कुमार सिंह ने घण्टों पूछताछ की। देर रात अपर जिला मजिस्ट्रेट मनोज कुमार सिंह ने बताया कि सपा नेता सुनील सिंह को शांतिभंग के आरोप में सीआरपीसी की धारा 151, निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने के आरोप में धारा 188 भादवि एवं कोरोना के मद्देनजर महामारी अधिनियम के तहत गिरफ्तार करके सुरक्षा की दृष्टि से जिले के किसी अन्य थाने में भेज दिया गया है।

यह भी पढ़े:

Related Articles