Death Anniversary : Satyajit Ray के नाम हुए 32 National Award, खुद पास चलकर आया था Oscar!!

Satyajit Ray ने अपने करियर में कई हिट फिल्में दी हैं। उनकी फिल्मों का ही जादू है जिसके लिए उन्हें Oscar से भी नवाजा गया था। भारत सरकार से उन्हें 32 National Award मिल चुके हैं जो किसी भी कलाकार के हुनर को साबित करने के लिए काफी हैं।

नई दिल्ली : Satyajit Ray बॉलीवुड के उन सितारों में से एक हैं जिनके काम की वजह से आज बॉलीवुड इंडस्ट्री इतने आगे पहुंच गई है। उन्हें दुनिया को अलविदा कहे 29 साल हो चुके हैं, लेकिन उनके द्वारा किए गए काम आज भी फिल्म मेकर्स के लिए मिसाल हैं। Satyajit Ray ने अपने करियर में कई हिट फिल्में दी हैं। Satyajit Ray की फिल्मों का ही जादू है जिसके लिए उन्हें Oscar से भी नवाजा गया था। भारत सरकार से उन्हें 32 National Award मिल चुके हैं जो किसी भी कलाकार के हुनर को साबित करने के लिए काफी हैं।

Satyajit Ray का बचपन काफी गरीबी से गुजरा क्योंकि उनके पिता का निधन बचपन में ही हो गया था। उनके पिता के निधन के बाद सारी जिम्मेदारी उनकी मां के कंधों पर आ गई थी। जिसके चलते उन्होंने Graphics designer की नौकरी करना शुरू कर दिया था। लेकिन फ्रांसीसी निर्देशक Jan Renoa से उनकी मुलाकात ने सब पलटकर रख दिया था। यहीं से पहली बार उनके दिमाग में फिल्मों का निर्देशन करने का ख़याल आया। साल 1950 में वह ऑफिस के किसी काम से London गए थे। यहां उन्होंने कई फिल्में देखीं, लेकिन फिल्म ‘बाइसिकल थीव्स’ देखकर निश्चय किया कि वह अब फिल्में ही बनाएंगे।

यह भी पढ़ें :

बनाई सुपरहिट फिल्में

भारत लौटने के बाद Satyajit Ray ने फिल्मों पर काम शुरू किया। उन्होंने साल 1952 में अपनी पहली फिल्म की शूटिंग शुरू कर दी। अपनी नौसिखिया टीम के साथ फिल्म पाथेर पंचोली की शूटिंग शुरू कर तो दी लेकिन कोई फाइनेंसर न होने की वजह से फिल्म की शूटिंग को बीच में ही रोकना पड़ गया। फिर उनकी मदद के लिए Bengal Government आगे आई। जिसकी मदद से यह फिल्म पूरी हुई। सिनेमाघरों में रिलीज होने के बाद यह फिल्म बड़े परदे पर सुपरहिट साबित हुई। फिल्म में उनके द्वारा किए गए जबरदस्त काम की वजह से उन्हें कई अवार्ड भी मिले। जिसके बाद उन्होंने चारूलता, महापुरुष, कंचनजंघा जैसी कई सुपरहिट फिल्में बनाईं।

Satyajeet Ray ने लगाईं Awards की लाइन

भारत सरकार की तरफ से Satyajit Ray को 32 National Award मिल चुके हैं। साल 1985 में उन्हें Dada Saheb Phalke Award से नवाज़ा गया। 1992 में उन्हें Bharat Ratna और Oscar ‘Honorary Award for Lifetime Achievement’ भी दिया गया। लेकिन तबीयत ठीक न होने की वजह से ऑस्कर लेने नहीं जा सके बल्कि उन्हें ऑस्कर देने खुद पदाधिकारियों की टीम कोलकाता आई थी। इसके करीब एक महीने बाद 23 अप्रैल 1992 को Satyajit Ray का निधन हो गया था।

 

Related Articles