नए साल पर रहें तैयार, बढ़ेंगे तेल के दाम

petrol-pump

दुबई। दुनिया के सबसे बड़े तेल निर्यातक देश सऊदी अरब ने एक ऐलान करके सबको चौंका दिया है। उसने फैसला किया है कि वह कच्चे तेल के दामों में भरी इजाफा करेगा।

11 साल का तोड़ा रिकॉर्ड
वहीं एक ओर जहां कच्चे तेल की कीमतें बीते 11 साल के रिकॉर्ड में पहली बार 37 डॉलर तक कम हुई हैं, वहीं सऊदी अरब में कच्चे तेल की कीमतों में 40 फीसदी तक बढ़ातेरी करने का फैसला किया है। बताया जा रहा है कि लगातार घाटे से जूझ रहे देश को उबारने के लिए ऐसा फैसला लिया गया है। सऊदी अरब का राजस्व घाटा करीब 66 बिलियन यूरो है। लगातार बढ़ रहे घाटे से निपटने के लिए कच्चे तेल की कीमतों में 40 फीसदी इजाफा करने का फैसला लिया गया है।

तेल के मुनाफे पर निर्भर है सऊदी अरब!
अगर खबरों की मानें तो सऊदी अरब का 80 फीसदी राजस्व लाभ तेल पर निर्भर करता है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमत अब 40 डॉलर प्रति बैरल से भी नीचे चली गई हैं। हालांकि देश में लगातार बढ़ रहे राजस्व घाटे को कम करने के लिए सरकार ने तेल से सब्सिडी हटाने का फैसला लिया है।

पूरी दुनिया में होगा असर?
ऐसा माना जा रहा है कि सऊदी अरब के इस फैसले से दुनिया के तमाम देशों में तेल कीमतों पर जबरदस्त उछाल आ सकता है। यहां की सरकार आने वाले बजट सत्र में घाटे को कम करने की योजना पर काम कर रही है। वहीं, दुनिया भर में कच्चे तेल की कीमतों में सोमवार को 11 साल का रिकॉर्ड तोड़ते हुए करीब 37 डॉलर की कमी आई।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button