KYC अपडेट कराने के लिए नहीं लगाने पड़ेंगे बैंक के चक्कर , ईमेल से हो जाएगा काम

नई दिल्ली : देश के पब्लिक सेक्टर के सबसे बड़े मनी लेंडर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (State Bank of India -SBI) ने अपने कस्टमर्स को KYC अपडेट के लिए एक और सर्विस मुहैया करा दी है।

इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें कोरोना वायरस पेण्डामिक की दूसरी लहर के मद्देनज़र  बार – बार लगते लोकल लॉकडाउन के चलते कस्टमर्स को अपनी ब्रांच पहुंचने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है। ऐसे में मौजूदा हालात को देखते हुए बैंक ने KYC के लिए पोस्ट या ईमेल के जरिए डॉक्यूमेंट्स को स्वीकार करने का फैसला किया है।

तीन कैटेगरी में किया जाता है KYC

इस मसले में एसबीआई ने लोकल ऑफिस के हेड को सलाह दी है कि कोरोना वायरस के चलते लोगों को SBI के ब्रांच आने में दिक्कत होती है। ऐसे में उन्हें KYC के लिए मेल, पोस्ट के जरिए डॉक्यूमेंट्स भेजने की सलाह दें।

इस मसले के जानकरों के मुताबिक, बैंक के हायर रिस्क कस्टमर्स को कम से कम दो साल में एक बार अपना KYC अपडेट करना होता है। वहीं मीडियम रिस्क कस्टमर्स को हर आठ साल में एक बार अपना KYC अपडेट करना होता है जबकि लो रिस्क कस्टमर्स को दस साल में एक बार KYC अपडेट करना होता है।

यह भी पढ़ें : Bengal के नतीजे पर बाबुल सुप्रियो जनता पर हुए नाराज, भाजपा की जगह बेईमान की बनाई सरकार

Related Articles