सिगरेट के पैकटों पर चित्र को और बड़ा करने SC ने किया इंकार, कहा- तस्वीर में गलत क्या है

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने तम्बाकू व सिगरेट के पैकेटों पर नई तस्वीर संबंधी चेतावनी पर रोक लगाने से इंकार कर दिया है। चीफ जस्टिस चंद्रचूड ने कहा कि देश में मुंह के कैंसर के मामले बढ़ते जा रहे हैं। जस्टिस का कहना है की इस तसवीर में सिर्फ जानकारी दी जा रही है। इस तसवीर में गलत क्या है इसके लिए सुप्रीम कोर्ट अगस्त के पहले हफ्ते में सुनवाई करेगा। वहीँ कोर्ट ने सरकार के उस निर्णय पर भी रोक लगाने से मना कर दिया है जिसमें जो लोग तंबाकू छोड़ने चाहते हैं उनकी मदद के लिए एक हेल्पलाइन बनाई जाएगी।

सिगरेट

केंद्र सरकार ने सिगरेट और तंबाकू उत्पाद (पैकेजिंग और लेबलिंग) कानून, 2008 में अप्रैल में संशोधन किया था। जिसके कारण सितंबर से भारत में सिगरेट और तंबाकू उत्पादों के नए पैकेट पर एक हेल्पलाइन नंबर लिखा जाएगा और उसके साथ ही चित्रात्मक और लिखित चेतावनी जारी की जाएगी। यह चेतावनी पैकेट के 85 प्रतिशत हिस्से को कवर करेगी। इसके अलावा कैंसर पीड़ित लोगों को भी इसमें प्रदर्शित किया जाएगा।

आपको बता दे की केंद्र द्वारा जारी गाइडलाइन्स में कहा गया था की तम्बाकू के पैकेटों में पहले की अपेक्षा बड़े बड़े शब्दों में लिखित चेतावनी देनी होगी। चेतावनी के अंतर्गत ‘तंबाकू की वजह से दर्दनाक मौत होती है’ और ‘तंबाकू की वजह से कैंसर होता है’, वो भी चेतावनी लाल रंग के बैकग्राउंड में सफेद अक्षरों से लिखी होगी। साथ ही टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 1800112356 काले बैकग्राउंड में सफेद अक्षरों से लिखा जाएगा।

Related Articles