अभिभावाओं की सहमति के बिना नहीं खुलेंगे स्कूल, बोले बच्चों के जीवन के साथ न करे खिलवाड़

 

अभिभावकों की सहमति के बिना स्कूल नहीं खुलेगे
अभिभावकों की सहमति के बिना स्कूल नहीं खुलेगे

लखनऊ: राजधानी में बच्चों के अभिभावकों की सहमति के बिना स्कूल नहीं खुलेंगे, यह फेसला जिला प्रशासन ने बुधवार को स्कूल प्रबंधकों व अभिभावकों के संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक के बाद लिया है. जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने बताया कि ऑनलाइन क्लास जारी रहेगी, उन्होंने प्राथमिकता देने की बात कहीं।

डीएम ने बताया कि प्रथम चरण में कक्षा 9 वीं से 10 वीं तथा दूसरे चरण में कक्षा 11 वीं से 12 वीं और तीसरे चरण में फीडबैक आने के बाद छोटे बच्चो के स्कूल खोने का निर्णय लिया जाएगा। डीएम ने सभी स्कूलों में एक मेडिकल क्लास रूम बनने का आदेश दिया इन में दो से तीन बेड होंगे, चिकित्सा सुविधा के साथ जानकारी रखने वाला एक व्यक्ति उपस्थित रहेगा।

अभिभावक अभी अपने बच्चों को स्कूल भेजना नहीं चाहते है कई अभिभावकों संगठनों की ओर से स्कूल न शुरू किए जाने पर जोर दिया कहा कि जब तक वैक्सीन न आ जाए, तब तक बच्चों के जीवन के साथ खिलवाड़ न करे. लखनऊ अभिभावक विचार परिषद के अध्यक्ष राकेश सिंह कहना है की अभी स्थितियां अच्छी नहीं है बच्चों की जान जोखिम में डालना ठीक नहीं होगा वहीं अभिभावक कल्याण संघ के अध्यक्ष प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि निजी स्कूल प्रबंधन सिर्फ अपना फायदा देख रहे है उन्हें बच्चों की कोई चिंता नहीं है अभिभावकों पर सहमति देने के लिए दबाव बनाया जा रहा है.

यह भी पढ़े: IPL 2020: रोमांचक मुकाबले में कोलकाता नाईट राइडर्स ने मारी बाजी

Related Articles