वैज्ञानिकों ने किया बड़ा खुलासा, दांत वाले थे मेढ़क के पूर्वज

0

नई दिल्ली। अक्सर कॉलोनी या घरों में मेढ़क को देखा जाता है। उनकी बनावट को देखकर काफी सारे लोगों को घिन आ जाती है। लेकिन ये भी सच है कि किसी बड़े जानवर की तरह मेढ़क के काटने का डर नहीं रहता। लेकिन, अपने कभी सोचा है कि मेढ़क भी काट पाता तो क्या होता। बेशक ऐसा विचार करना थोड़ा मुश्किल है। क्योंकि मेढ़क के दांत नहीं होते। लेकिन, आपको जानकार हैरानी होगी उनके पूर्वजों के मुंह में दांत पाए जाते थे।

यह भी पढ़ें, करोड़ों साल पहले धरती पर मौजूद थे 20 तरह के डायनासोर, जानिये क्या थी इनकी खासियत

मेढ़क

टोरंटो मिसिसॉगा विश्वविद्यालय (यूटीएम) के एक जीवाश्म वैज्ञानिक ने इस बात से पर्दा उठाया। उन्होंने बताया कि मेढ़क के पूर्वजों के मुंह में दांत, बड़े विषदंत और हज़ारों छोटे हुक-जैसे संरचनाएं होती थीं, जिन्हें डेंटिकल्स कहा जाता था। ये शिकार को फंसाने के काम आते थे।

प्रोफेसर रॉबर्ट रेसज़ बताते हैं कि कई रीढ़ वाले जानवर हैं जिनके मुंह के उपरी हिस्से में हड्डी से बने दांत पाए जाते हैं। इसी तरह उभयचर जीवों के पूर्वज माने जाने वाले टेम्नोस्पोंडियल्स के मुंह के भीतर भी दांतों की पंक्ति एक मजबूत प्लेट पर लगी पाई गयी है।

इनका पूरा मुंह महीन दांतों से भरा होता था जो शिकार को जकड़ने का काम करते थे। लेकिन धीरे-धीरे ये प्लेट मुलायम और नरम उतकों में बदलनी शुरू हो गयी। यही वजह है कि अब इनके दांत अक्सर जीवाश्म में नहीं पाए जाते।

इसके अलावा उन्होंने बताया कि मेढ़क के पूर्वजों में पाए जाने वाले दांत शिकार को मुंह में फंसाने में काफी सहायक होते थे। लेकिन, आज कीड़े या छोटे टेट्रोपोड भी उन्हीं की तरह अपने नेत्रगोलक को वापस मुंह में सिकोड़ कर शिकार को निगलने की विधि अपनाते हैं।

loading...
शेयर करें