एस.सी.ओ के महासचिव नोरोव ने कहा, अर्थव्यवस्था को सुधारने में डिजिटल महत्वपूर्ण

व्लादीमीर नोरोव ने कहा, कोरोना काल में अर्थव्यवस्था को सुधारने में डिजिटल महत्वपूर्ण

नई दिल्ली: एशिया-प्रशांत क्षेत्र के देशों के संगठन शंघाई सहयोग संघ (एस.सी.ओ) के महासचिव व्लादीमीर नोरोव ने कहा है कि कोरोना काल (कोविड-19) महामारी के पश्चात अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में डिजिटल की महत्वपूर्ण भूमिका होगी और संबद्ध देशों को इस दिशा में गंभीरता से प्रयास करने चाहिए।

एस.सी.ओ का मुख्य उद्देश्य

महासचिव नोरोव ने कल देर शाम भारतीय वाणिज्य और उद्योग महासंघ (फिक्की) के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि एस.सी.ओ का मुख्य उद्देश्य सभी सदस्य देशों की अर्थव्यवस्थाओं को गति देना है। इसके लिए लगभग 150 आर्थिक गतिविधियां शुरू की गई हैं। इन गतिविधियों में सभी सदस्य देश आपसी सहयोग बढ़ाएंगे और एक दूसरे की मदद करेंगे।

आपसी व्यापार और आर्थिक सहयोग

महासचिव व्लादीमीर नोरोव ने कहा कि एससीओ के सदस्य देश आपसी व्यापार और आर्थिक सहयोग बढ़ाने के लिए भी लगातार प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि महामारी के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक प्रभाव से उबरने के लिए सभी देशों को एकजुटता से प्रयास करने होंगे।

शंघाई सहयोग संगठन का परिचय

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) अपने अस्तित्व के पिछले दो दशकों में यूरेशियन क्षेत्र में एक मुख्य क्षेत्रीय संगठन के रूप में उभरा है। यूरेशिया क्षेत्र के 60 प्रतिशत से अधिक और दुनिया की आबादी के 40 प्रतिशत से अधिक के आंकड़े को देखते हुए     एससीओ के सदस्य देशों का दुनिया के सकल घरेलू उत्पाद में लगभग एक चौथाई हिस्सेदारी है। स्थायी और पर्यवेक्षक सदस्यों दोनों रूपों में नए राष्ट्रों को शामिल करने से संगठन की सीमाओं में विस्तार हुआ है।

यह भी पढ़े:तमिलनाडु और पुड्डुचेरी में चक्रवाती ‘निवार’ तूफान, पीएम मोदी ने दिया हर संभव मदद का आश्वासन

यह भी पढ़े:उत्तराखंड: कार की बस से जबरदस्त भिड़ंत, हादसे में दो की मौत, एक घायल

Related Articles