यूरोप तथा ब्रिटेन के बीच व्यापार समझौते पर लगी मुहर

यूरोपीय संघ तथा ब्रिटेन के बीच दुनिया के सबसे बड़े व्यापारिक समझौतों में से एक पर मुहर लग गयी है, यह समझौता ब्रिटेन के ईयू से अलग होने से सात दिन पहले हुआ ।

लंदन: यूरोपीय संघ तथा ब्रिटेन के बीच दुनिया के सबसे बड़े व्यापारिक समझौतों में से एक पर मुहर लग गयी है।

जिस वजह से गुरुवार को ब्रेग्जिट  के बाद व्यापार पर यह समझौता ब्रिटेन केब्रिटेन और यूरोपीय संघ के बीच समझौता हो गया। इस मौके पर बोलते हुए यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन ने इसे ‘उचित’ और ‘संतुलित’ समझौता करार दिया। उन्होंने कहा, “यह एक मुश्किल काम था, लेकिन हमने अच्छा समझौता कर लिया है। यह एक उचित तथा बहुत ही अच्छा मझौता है और दोनों पक्षों के लिए सही और जिम्मेदारी वाला है।”

वहीं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि यह समझौता ब्रिटेन को अपना निर्णय स्वतंत्र तरीके से लेने की अनुमति देगा। उन्होंने कहा, “हमने अपने भाग्य को वापस ले लिया है, लोगों ने कहा कि यह असंभव है, लेकिन हमने नियंत्रण वापस ले लिया है। हम एक स्वतंत्र तटीय राज्य होंगे। हम यह तय करने में सक्षम होंगे कि नई नौकरियों को कैसे और कहां से उत्पन्न किया जाए।”

चार साल बाद में हुआ व्यापार समझौता

कोरोना महामारी से बुरी तरह प्रभावित ब्रिटेन ने व्यापार के क्षेत्र में यूरोपीय यूनियन से हाथ मिला लिया है।   यूरोपीय यूनियन ने इसकी पुष्टि करते हुए जल्द डील का ब्योरा देने की बात कही है।

वहीं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि यह समझौता ब्रिटेन को अपना निर्णय स्वतंत्र तरीके से लेने की अनुमति देगा। उन्होंने कहा, “हमने अपने भाग्य को वापस ले लिया है, लोगों ने कहा कि यह असंभव है, लेकिन हमने नियंत्रण वापस ले लिया है। हम एक स्वतंत्र तटीय राज्य होंगे। हम यह तय करने में सक्षम होंगे कि नई नौकरियों को कैसे और कहां से उत्पन्न किया जाए।”

यह भी पढ़े:चीन में मुसलमानों पर हो रहे अत्याचारों की जांच करेगा अमेरिका

Related Articles