SEBI ने निवेशकों के 62,600 करोड़ रुपये सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय से तत्काल मांगे

SEBI ने कहा कि कम्पनी अगर इन्वेस्टर्स का पैसा वापस नहीं करती तो दोषियों को हिरासत में लेने की कार्यवाही की जाएगी.

नई दिल्ली: सेक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ़ इंडिया (SEBI) ने सहारा समूह की दो कम्पनियों और सुब्रत रॉय सहारा को 62,600 करोड़ रुपये तुरंत जमा करने को कहा है. इस मार्फ़त सेबी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है. जिससे ये खुलासा हुआ. SEBI ने कहा कि कम्पनी अगर इन्वेस्टर्स का पैसा वापस नहीं करती तो दोषियों को हिरासत में लेने की कार्यवाही की जाएगी.

एक समाचार एजेंसी के मुताबिक SEBI ने बुधवार को देश के सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दाखिल की है जिसमे SEBI ने कहा है कि सहारा ग्रुप ने 2012 और 2015 में आये कोर्ट के आदेशों को पालन नहीं किया है जिस आदेश में कहा गया था कि वह इन्वेस्टर्स से जमा रकम को 15 परसेंट इंटरेस्ट सहित वापस करे.

कई साल से चल रहा सहारा और सेबी का टकराव

पिछले कई सालों से सहाराश्री सुब्रतो रॉय और सेबी के बीच इन्वेस्टर्स के करोड़ों रुपे की वापसी को लेकर टकराव चल रहा है. सहारा ने ये पैसे बांड योजना में निवेश किये थे. जिसके SEBI ने अवैध बयाता था. इस मामले में सुब्रत रॉय पर कोर्ट में न पहुंचने और न्यायालय अवमानना के आरोप थे. जिसमें उनको 2014 में गिरफ्तार किया गया और 2016 से वो जमानत पर हैं. सहारा प्रमुख इस बात को लेकर हमेशा से इनकार करते आये हैं कि इन्वेस्टर्स के साथ कुछ गलत या धोकाधडी की गई है. वो कहते हैं कि सहारा ग्रुप लीगल तरीके से पैसे जमा कर रही है और मैच्योरिटी पर निवेशकों का पैसा वापस भी किया जाता है.

हिरासत की मांग

इस मामले को लेकर SEBI का कहना है कि ‘पिछले साल से नियमों का सहारा द्वारा पालन न करने की वजह से उसे ‘काफी असुविधा’ हो रही है और ​यदि कंपनी निवेशकों का पैसा SEBI के पास जमा नहीं करती है तो दोषी लोगों को हिरासत में लिया जाए. SEBI ने कहा, ‘सहारा ने उसके आदेशों और निर्देशों के पालन का कोई प्रयास नहीं किया है. कानून का मखौल बनाने वाले की लायबिलिटी दिनोंदिन बढ़ती जा रही है और उन्हें हिरासत से रिहाई का सुख मिल रहा है. ‘सेबी ने बताया कि सहारा ने मूलधन का सिर्फ कुछ हिस्सा जमा किया है और अब भी ब्याज सहित बकाया रकम 62,600 करोड़ रुपये का है.

सहारा समूह का अधिकारिक बयान

वहीँ सहारा ग्रुप ने अधिकारिक बयान में इससे इनकार किया है और कहा कि हमने 22 हज़ार करोड़ रुपये जमा किये हैं और SEBI गलत तरीके से इंटरेस्ट जोड़कर इन्वेस्टर्स की पूरी जमा राशी को बढ़ा-चढ़ाकर दिखा रहा है.

ये भी पढ़ें : विश्व के 190 देशों में कोरोना संक्रमितों की संख्या 5.68 करोड़ के पार

Related Articles

Back to top button