तालिबान की देखें अकड़, अफगान में कब्जे के बाद हौसला बुलंद, अमेरिका को सुनाया फरमान

काबुल: अफगानिस्तान में कब्जे के बाद तालिबान की अकड़ इतनी बढ़ गई है कि अब अमेरिका को भी अपने आगे कुछ नहीं समझता है। तालिबन ने अमेरिका को फरमान सुनाया है कि वह पेशेवर अफगानों को वहां से निकालना बंद करे। इसके अलावा तालिबान ने अमेरिकी सैनिकों की अफगानिस्तान से वापसी की 31 अगस्त की समय-सीमा को आगे बढ़ाने से मना कर दिया है।

न्यूज़ एजेंसी एएफपी ने तालिबान समूह के प्रवक्ता के हवाले से मंगलवार को यह जानकारी दी है। तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने जानकारी दी है कि, हम अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों की मौजूदगी की समय सीमा नहीं बढ़ाएंगे, वे 31 अगस्त तक अपने नागरिकों और सैनिकों को निकालने में सक्षम हैं।

तालिबान यहां नहीं कर सकता कब्जा

जबीहुल्ला मुजाहिद के मुताबिक, अमेरिका को अफगान अभिजात वर्ग को देश छोड़ने के लिए प्रोत्साहित नहीं करना चाहिए। टोलो न्यूज की तरफ से खबर मिली है कि तालिबान पंजशीर में शांति से समस्या का समाधान कर सकता है। तालिबान ने इससे पहले कहा था कि उन्होंने पंजशीर प्रांत को घेरना शुरू कर दिया है। अफगानिस्तान के 34 प्रांतों में से पंजशीर इकलौता ऐसा प्रांत है जहां तालिबान कब्जा नहीं कर सका है।

22 अगस्त को अमेरिकी राष्ट्रपति ने कही ये बात

22 अगस्त को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा था कि अफगान में लोगों को निकालने के अभियान को 31 अगस्त से आगे बढ़ाने से मना नहीं करेंगे। इसी तारीख तक अमेरिकी सैन्य बलों की अफगानिस्तान से पूर्ण वापसी होनी है। तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने ‘स्काई न्यूज’ द्वारा खबर दी है कि 31 अगस्त ‘रेड लाइन’ है और अमेरिकी सैनिकों की मौजूदगी की समय सीमा बढ़ाना उकसावे का कदम होगा।

Related Articles