देश में बेरोजगारी का देखें सच, एमए व बीटेक पास बनना चाहते है चपरासी

पानीपत: देश में कितनी बेरोजगारी की बाढ़ आ गई है इसका आपको अंदाजा भी नहीं होगा। लेकिन इसका खुलासा तब हुआ जब चपरासी (Peon) के 13 पदों पर नौकरी निकली तो आवेदनों का अंबार लग गया। पानीपत कोर्ट में 13 पदों पर चपरासी की नौकरी पाने के लिए 27671 युवाओं ने आवेदन किया। नौकरी के लिए आठवीं पास की योग्यता मांगी गई थी। बेरोजगार युवाओं ने कहा जब पता चला कि चपरासी (Peon) की भर्तियां निकली है तो बेरोजगारी की वजह से नौकरी पाने के लिए उन्होंने यह आवेदन किया।

दिल्ली व यूपी के बेरोजगार युवा भी पहुंचे

देश में बेरोजगारी इतनी फैलने लगी है कि ग्रुप डी की भर्ती में उच्स्तरीय पढ़ाई कर चुके युवा आवेदन करते है, अब चपरासी के 13 पदों पर नौकरी निकली तो आवेदनों का अंबार लग गया। नौकरी के लिए 27 हजार 671 लोगों ने आवेदन कर रखा है। शुक्रवार को विभाग द्वारा करीब तीन हजार आवेदकों को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया है। पहले इनके दस्तावेजों की जांच की जाती है। साक्षात्कार देने के लिए दिल्ली और उत्तर प्रदेश व प्रदेश के विभिन्न जिलों से युवक व कई दंपती भी पहुंचे। चपरासी की नौकरी पाने के लिए आठवीं पास से ज्यादा ग्रेजुएट ,पोस्ट ग्रेजुएट और बीटेक पास के छात्र भी इंटरव्यू देने के लिए पानीपत कोर्ट में लाइन में लगे थे।

ये भी पढ़ें : बीजेपी की युवा नेता को पुलिस ने किया गिरफ्तार, कार में बरामद हुई ये सामग्री

बेरोजगारी की वजह से किया आवेदन

युवाओं का कहना था कि बेरोजगारी की वजह से उन्होंने यह आवेदन किया है। पानीपत में पहुंचे बेरोजगार युवाओं ने बताया कि कम से कम चपरासी की ही नौकरी मिल जाए तो परिवार पर आर्थिक बोझ नहीं रहेगा। पानीपत कोर्ट में चपरासी के पदों पर निकली नौकरी के लिए योग्यता आठवीं पास हैं, लेकिन एमए, बीटेक, बीएससी और होटल मैनेजमेंट का कोर्स किए युवक भी चपरासी की नौकरी की चाहत में जुटे रहे।

ये भी पढ़ें : मुख्यमंत्री की फटकार के बाद रद्द की गई सामाजिक विज्ञान की परीक्षा

Related Articles

Back to top button