टेक्निकल वर्ल्ड का लेवल हुआ अपग्रेड, रोबोट खुद करेंगे अपनी मरम्मत

0

नई दिल्ली: मानव जीवन को सुविधापूर्वक और बेहतर बनाने के लिए वैज्ञानिकों ने रोबोट का निर्माण किया। अपनी इस खोज में बढ़ोत्तरी करते हुए वैज्ञानिकों ने एक और विकल्प खोजा है। उनका मकसद रोबोट को ऐसी शक्ति देना है जिससे वह इंसानों द्वारा किये गए सारे कार्य कर सकें और साथ ही साथ इंसानों से लगभग 5 गुना जल्दी काम कर सकें। इस नई खोज से रोबोट किसी भी काम को बिना झटका लगे इंसानों की तरह आराम से कर सकेगा और अपनी तकनीकी दिक्कतों की खुद मरम्मत कर सकेगा।

रोबोट

रोबोट में अगर कुछ दिक्कत आ जाती है तो उसे ठीक करना मुश्किल हो जाता है। इसी समस्या का समाधान करने के लिए अमेरिका के कार्नेगी मेलन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने रिसर्च की। शोधकर्ताओं की रिसर्च का मकसद रोबोट की त्वचा को थोड़ा मोटा करना था। ऐसा इसलिए क्योंकि ज्यादातर रोबोट सरफेस डेमेज और इलेक्ट्रिकल फेलियर की वजह से खराब हो जाते हैं।

ऐसे में शोधकर्ता चाहते थे कि इन दोनों चीजों की पोलेमर कोटिंग की जाए। इसी मकसद से शोधकर्ताओं की टीम ने माइक्रोड्रोपलेट्स इंजेक्शन के जरिए गैलियम इंडियम आधारित धातु को उसकी तारों की सतह पर पहुंचाया, ताकि वह पहले से ज्यादा मुलायम हो जाए। रोबोट की मोटी त्वचा होने के कारण उसकी बॉडी जल्दी हीट भी नहीं होगी।

यह मूल रूप से सेल्फ हीलिंग मटीरियल है जो ठोस और तरल के बीच का है। इस वजह से रोबोट आसानी से जहां-तहां मुड़ सकेगा। सिर्फ इतना ही नहीं हीलिंग मैटीरियल के चलते उसके खराब होने की संभावना भी कम हो जाएगी। खास बात ये कि रोबोट खुद अपनी मरम्मत भी कर पाएंगे। सेल्फ हीलिंग मटीरियल को बस एक्टिवेट होने के लिए हीट की जरूरत होती है।

loading...
शेयर करें