सर्विस सेक्टर के आंकड़ों में आया सुधार, पीएमआई में आई लगातार पांचवें महीने तेजी

नई दिल्ली: भारत के सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में लगातार पांचवें महीने बढ़ोतरी दर्ज की गई, जो पिछले सात वर्षों में सबसे अधिक है. बुधवार को जारी हुए मासिक सर्वेक्षण के अनुसार आर्डर में तेजी, निर्यात मांग बढ़ने और कारोबारी विश्वास मजबूत होने से यह वृद्धि दर्ज की गई. आईएचएस मार्किट इंडिया का सेवा कारोबार गतिविधि सूचकांक जनवरी के 55.5 से बढ़कर फरवरी में 57.5 हो गया. यह जनवरी 2013 से सेवा क्षेत्र में सबसे तेज बढ़ोतरी है.

रिपोर्ट के मुताबिक फरवरी के दौरान नए कारोबार में सात वर्षों की दूसरी सबसे तेज वृद्धि देखी गई.रिपोर्ट में कहा गया है कि विदेशों से नए आर्डर मिलने से कुल बिक्री में बढ़ोतरी दर्ज की गई. इस दौरान भारतीय सेवाओं के लिए अंतरराष्ट्रीय मांग में बढ़ोतरी की रफ्तार मध्यम थी, लेकिन यह लंबे समय से औसत से अधिक रही.
आइएचएस मार्किट की प्रिंसिपल इकोनॉमिस्ट Pollyanna De Lima ने कहा, ‘कारोबारी गतिविधियों में इस ग्रोथ के पीछे घरेलू और वैश्विक बाजारों में सर्विस सेक्टर के लिए स्वस्थ मांग है. यह मौजूदा वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही की GDP ग्रोथ रेट के लिए भी एक अच्छा संकेत है.’ डे लिमा ने कहा, ‘सर्विस प्रोवाइडर्स कारोबारी गतिविधियों में तेज बढ़त के साथ वर्कफोर्स प्रोडक्टिविटी में भी अच्छे-खासे सुधार को अनुभव कर रहे हैं.

इसके बावजूद रोजगार के मौर्चे पर मामूली तेजी आई है.’ वहीं, एक दुसरे सर्वे से सोमवार को सामने आया था कि फरवरी में फैक्ट्री गतिविधियों में गिरावट आई है. डिमांड और आउटपुट के मामूली रूप से कमजोर होने के कारण यह गिरावट दर्ज की गई.

Related Articles