शबाना आज़मी ने फिल्मों में आइटम सॉन्ग के चलन की आलोचना की

0

मुंबई: बॉलीवुड इंडस्ट्री की जानी मानी दिग्गज अदाकारा शबाना आजमी ने अपनी अदाएगी से बॉलीवुड में अच्छा मुकाम हासिल किया है। शबाना आज़मी ने फिल्मों में आइटम सॉन्ग के चलन की आलोचना की है।

उन्होंने कहा,  ‘कुछ लोगों के लिए आइटम सॉन्ग महिलाओं की सेंसुअलिटी का जश्न मनाने जैसा है। लेकिन मेरे लिए यह महिलाओं के पुरुषों के सामने सरेंडर करने के बराबर है। हालांकि यह पहली बार नहीं है जब एक्ट्रेस ने आइटम सॉन्ग की आलोचना की हो’।

शबाना ने आगे कहा, ‘ये गाने स्क्रिप्ट का हिस्सा नहीं होते। आइटम सॉन्ग को फिल्मों में सिर्फ दर्शकों को रिझाने के उद्देश्य से डाला जाता है। जब एक लड़की और लीडिंग लेडी कहती हैं कि मुझे आइटम सॉन्ग से दिक्कत नहीं है और सेंसुअल एक्ट से परहेज नहीं है। मुझे लगता है यह बहुत अद्भुत है। लेकिन अपनी सेंसुअलिटी का जश्न मनाने के चक्कर में आप असल में पुरुषों के सामने सरेंडर कर रहे हो और खुद का प्रदर्शन कर रहे हो’। शबाना आजमी ने करीना कपूर के आइटम सॉन्ग ‘फेवीकॉल से’ पर भी निशाना साधा था।

loading...
शेयर करें