शाह ने देशवासियों से किया दिवाली पर स्थानीय उत्पाद खरीदने का आह्वान

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने देशवासियों से कहा इस दिवाली पर आइये हम सब एकजुट होकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘लाेकल फॉर दिवाली’ के आह्वान को सफल बनायें।

नयी दिल्ली : केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने देशवासियों से दिवाली पर स्थानीय उत्पाद खरीदने का आह्वान करते हुए कहा कि इस छोटी सी पहल से त्यौहारों के समय में लाखों लोगों के जीवन में रोशनी आ सकती है। शाह ने आज टि्वट कर कहा , “ इस दिवाली पर आइये हम सब एकजुट होकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘लाेकल फॉर दिवाली’ के आह्वान को सफल बनायें। स्थानीय उत्पादों, हथकरघा और व्यापारियों को हमारा थोड़ा सा समर्थन त्यौहार के इस मौसम में लाखों लोगों के जीवन में रोशनी पैदा कर देगा।”

पीएम मोदी ने भी की थी अपील

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज देशवासियों से आह्वान किया कि वे स्थानीय उत्पादों को खरीदें और उन्हें बढावा दें। उन्होंने ‘लोकल फॉर दिवाली’ का नारा देते हुए कहा कि उनका देशवासियों से आग्रह है कि वे इसका खूब प्रचार करें और लोगों को स्थानीय उत्पादों काे अपनाने के लिए कहें।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘‘मन की बात”

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को देशवासियों से त्योहारों के मौसम में बाजार से खरीदारी करते समय स्थानीय उत्पादों को प्राथमिकता देने का आह्वान करते हुए आग्रह किया कि वे कोरोना वायरस के इस संकट काल में संयम से काम लें और मर्यादा में रहें। मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘‘मन की बात” में कहा कि मैं देशवासियों से यह अनुरोध करता हूँ कि त्योहारों के इस मौसम में वे जब भी अपने घरों में दीया जलाएं तो एक दीया देश के उन जवानों के नाम भी जलाएं जो सरहदों पर देश की सुरक्षा में लगे हैं। जिनकी वजह से हम सुरक्षित अपने घरों में सभी त्यौहार मन सक रहे हैं।

यह भी पढ़ें :

उन्होंने कहा, ‘‘त्योहारों की ये उमंग और बाजार की चमक, एक-दूसरे से जुड़ी हुई है। लेकिन इस बार जब आप खरीदारी करने जायें तो ‘वोकल फॉर लोकल’ का अपना संकल्प अवश्य याद रखें। बाजार से सामान खरीदते समय, हमें स्थानीय उत्पादों को प्राथमिकता देनी है।” उन्होंने कहा कि बच्चों में तो त्योहारों को लेकर विशेष उत्साह रहता है कि इस बार त्योहार पर नया क्या मिलने वाला है? उन्होंने कहा, ‘‘जब त्योहार की बात करते हैं, तैयारी करते हैं, तो सबसे पहले मन में यही आता है, कि बाजार कब जाना है? क्या-क्या खरीदारी करनी है? कोरोना के इस संकट काल में, हमें संयम से ही काम लेना है, मर्यादा में ही रहना है।”

Related Articles

Back to top button