शाहीन बाग में सीएए को लेकर कई सवालों पर उमड़ता सैलाब, तीस्ता दे रही ट्रेनिंग

नई दिल्ली:दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे पिछले दो महीनों से संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन से लोगों को आवाजाही में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। इस प्रदर्शन से कालिंदी कुंज वाली सड़क पूरी तरह से बंद है। इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका डाली गई है जिसके बाद अदालत ने प्रदर्शनकारियों से मध्यस्थता करने के लिए एक पैनल बनाया है।

इसी के साथ भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) यह दावा है कि शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को बात करने के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है। यह प्रशिक्षण भी कोई और नहीं बल्कि तीस्ता सीतलवाड़ दे रही हैं। भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने एक वीडियो ट्वीट कर यह दावा किया है।

अमित मालवीय ने जो वीडियो ट्वीट किया है उसमें तीस्ता सीतलवाड़ के साथ एक युवती प्रदर्शनकारियों के सामने कुछ सवालों को समझाती दिख रही है। वो ये भी कहते हुए सुनी जा सकती है कि ये सवाल हैं लेकिन जवाब किसी को नहीं देने हैं। जो सवाल है वो ये…

पहला सवाल: क्या शाहीन बाग आंदोलन की जगह बदलने से आंदोलन कमजोर होगा?

दूसरा सवाल: अगर जगह बदलने की बात होती है तो महिलाओं की हिफाजत की जिम्मेदारी कौन लेगा?

तीसरा सवाल: आंदोलन की वजह से कुछ पब्लिक को दिक्कत हो रही है, इसके बारे में हमें क्या करना है?

चौथा सवाल: आधा रास्ता खोलने से मसला हल होगा क्या?

पांचवां सवाल: क्या शाहीन बाग आंदोलन का रंगरूप बदलने से आंदोलन कमजोर होगा क्या?

इस सवालों के बाद वह यह कहती है किसवाल हमारे हैं लेकिन जवाब आपके ही होंगे। इसके बाद  तीस्ता सीतलवाड़ माइक ले लेती हैं। वह प्रदर्शनकारियों को सवालों के मतलब समझाती हैं। वह कहती हैं कि रंग-रूप का मतलब ये है कि आप लोग 24 घंटे यहां न बैठें। दिन में कुछ समय के लिए या हफ्ते में एक-दो बार या शाम को ही आएं।

Related Articles