IPL
IPL

एक, दो नहीं 47 भाषाएं बोल लेती है ‘शालू’, इंसान नहीं Humanoid Robot है जनाब!

लोग ऐसे एडवांस रोबोट बना रहे हैं जो किसी भी सूरत में इंसान से कम नहीं लगते हैं। इसी के चलते Uttar Pradesh के जौनपुर जिले में रहने वाले Dinesh Patel ने एक Humanoid robot बनाया है।

नई दिल्ली : इनोवेशन के मामले में अगर भारतीयों की बात की जाए तो उनका मुकाबला कोई नहीं कर सकता है। और इसके लिए उन्हें ढेर सारे संसाधनों की भी जरूरत नहीं पड़ती है। साइंस और टेक्नोलॉजी में लगातार हो रहे नए-नए खोज और प्रयोगों के चलते एक से बढ़कर एक गैजेट्स सामने आ रहे हैं। टेक्नोलॉजी के बढ़ते क़दमों के चलते आजकल कई क्षेत्रों में Robots का इस्तेमाल बढ़ गया है। लोग ऐसे एडवांस रोबोट बना रहे हैं जो किसी भी सूरत में इंसान से कम नहीं लगते हैं। इसी के चलते Uttar Pradesh के जौनपुर जिले में रहने वाले Dinesh Patel ने एक Humanoid robot बनाया है।

रोबोट को आती हैं 47 भाषाएं

Dinesh Patel IIT Maharashtra के केंद्रीय विद्यालय में computer science के टीचर हैं। दिनेश ने एक ऐसा रोबोट तैयार किया है, जो 47 भाषाओं में बात कर सकता है। यह robot 9 भारतीय और 38 विदेशी भाषाएं बोल सकता है। Dinesh Patel ने बताया कि इस इंसानों जैसे दिखने वाले robot को हिन्दी, इंग्लिश, मराठी, भोजपुरी, जर्मन और फ्रेंच समेत 47 देसी-विदेशी भाषाओं में महारत हासिल है।

यह भी पढ़ें :

क्या है रोबोट का नाम

इंसानों की तरह दिखने वाले इस रोबोट का नाम ‘शालू’ है। शालू लोगों को पहचान सकती है और उनके नाम भी याद रख सकती है। यह रोबोट जनरल सवालों के जवाब भी दे सकता है। इस रोबोट को बनाने वाले शिक्षक दिनेश पटेल ने बताया कि अभी यह रोबोट प्रोटोटाइप के रूप में है और वह जल्द ही इसके वर्जन-2 को बनाना शुरू करेंगे।

वेस्ट प्रॉडक्ट्स से बना है रोबोट

Dinesh Patel ने बताया कि इसे बनाने में 3 साल का समय लग गया है। उन्होंने आगे बताया कि यह humanoid पूरी तरह से made in India है। यह रोबोट पूरी तरह से वेस्ट प्रॉडक्ट्स से बनाया गया है। इसमें लगे सभी उपकरण लोकल मार्केट से खरीदे गए हैं। पटेल इसे स्कूल में ले जाना चाहते हैं ताकि बच्चे इससे पढ़ सकें, चीन सीख सकें, सभी भाषाएं सीख सकें और साथ ही उनका एंटरटेनमेंट भी हो सके।

Related Articles

Back to top button