मोदी के गढ़ में शर्मसार हरकत, ऊंचे घराने से ताल्लुक रखने वालों ने किया महिला को लहूलुहान

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गढ़ में ही सरकार के दावों की खुलेआम धज्जियां उड़ा दी गईं। जाती के नाम पर यहां एक महिला को न केवल अपमानित किया गया, बल्कि उसके ऊपर हमला भी किया गया। महिला का गुनाह सिर्फ इतना था कि वह ऊंची जाती से ताल्लुक रखने वालों के सामने कुर्सी पर बैठ गई थी। महिला का कुर्सी पर बैठना उन्हें रास ना आया और महिला को कुर्सी से धक्का देकर गिरा दिया गया। बाद में वहां मौजूद अन्य लोग हिंसक हो उठे। महिला ने पुलिस में इस बात की शिकायत दर्ज कराई है।

अरुण पाटिल राजस्थान एमिटी यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेंट बने

नरेंद्र मोदी

वहीं पीड़ित महिला के एक रिश्तेदार का कहना है कि दरबार दलितों को तंग करने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि मैंने उनके समुदाय के लोगों के खिलाफ केस दर्ज करवाया था।

उसने यह भी कहा कि वे लोग मेरे नाम के टाइटल में सिंह लगाने का विरोध कर रहे थे, जिस महिला को पीटा गया है वो मेरी आंटी हैं, उनका एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज किया जा रहा है, उनके सिर में गंभीर चोटें आईं हैं।

खबरों के मुताबिक़ इस महिला को पंचायत ऑफिस में आधार कार्ड बांटने का काम दिया गया था। आरोप है कि जब महिला कुर्सी पर बैठी तो दरबार समुदाय के लोगों ने उस पर हमला किया।

फिर शुरु हुआ कर्नाटक का नाटक, कांग्रेस के कई विधायक बीजेपी…

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने घटना की पुष्टि की है और कहा है कि दूसरी ओर से भी केस दर्ज कराया गया है। दरबार समुदाय के लोगों पर एंटी दलित उत्पीडन एक्ट की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया है।

बता दें पीड़ित महिला के परिवार पर पहले भी इलाके के दबंग हमला कर चुके हैं। पिछले महीने जब इस महिला के एक रिश्तेदार ने अपने नाम में ‘सिंह’ लगाया था उस वक्त भी दंबगों ने इसके रिश्तेदार पर हमला किया था।

अहमदाबाद के कोठ पुलिस स्टेशन में 7 जून (गुरुवार) को दर्ज एफआईआर के मुताबिक जयराज सिंह वेगड़ नाम के शख्स ने पीड़िता को पूछा कि वह कुर्सी पर क्यों बैठी है।

इसके बाद उसने कुर्सी को धक्का दिया इसके बाद पीड़िता कुर्सी से गिर गई। जयराज सिंह वेगड़ इस मामले के 10 आरोपियों में से एक है।

घटना के बाद दरबार समुदाय से 9 और लोग आए और वहां मौजूद दलितों को जाति से जुड़ी गालियां दीं, और उनपर डंडों और लोहे के सरिये से हमला कर दिया।

Related Articles