बाबाओं के फेर में फंसी बीजेपी, संतों को राज्यमंत्री का दर्जा देने पर शंकराचार्य ने लगाई लताड़

0

भोपाल। मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार द्वारा पांच संतों को राज्यमंत्री का दर्जा देना उन्हें भारी पड़ता नजर आ रहा है। इस मामले में अब शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद ने बीजेपी को लताड़ लगाई है। उन्होंने कहा है कि यह सरकार का स्वार्थपूर्ण फैसला है। सरकार ने यह फैसला अपने स्वार्थों की पूर्ति हेतु लिया है। उन लोगों को मंत्री बनाया गया है, जिन्हें कोई जानता भी नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार को इस तरह का दर्जा उन लोगों को देना चाहिए, जोकि सम्मानित हैं व आध्यात्मिक रुप से जनता की मदद करने में सक्षम हैं।

सरकार के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में दाखिल हुई याचिका
शिवराज सरकार द्वारा 5 संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दिए जाने के खिलाफ मध्य प्रदेश हाई कोर्ट में अपील भी की गई है। राम बहादुर शर्मा नाम के शख्स ने हाई कोर्ट की इंदौर खंडपीठ में शिवराज सरकार द्वारा पांच बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा दिए जाने के फैसले के खिलाफ बुधवार को याचिका दाखिल की है।

पिछले दिनों मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने पांच बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा दिया है। इनमे कंप्यूटर बाबा के साथ इंदौर के भय्यू महाराज, अमरकंटक (नर्मदा उद्गम) के हरिहरानंदजी, डिंडोरी के नर्मदानंदजी और पंडित योगेंद्र महंत के नाम शामिल हैं। इस फैसले के बाद से सरकार और मुख्यमंत्री के फैसले पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं।

loading...
शेयर करें