शारदीय नवरात्र आज से शुरू, घर-घर होगी देवी की आराधना

शारदीय नवरात्रि
शारदीय नवरात्रि

पटना: शक्ति की अधिष्ठात्री मां दुर्गा की उपासना का त्योहार शारदीय नवरात्र आज से शुरू हो गया। भारतीय संस्‍कृति में देवी को ऊर्जा का स्रोत माना गया है। अपने अंदर की ऊर्जा को जागृत करना ही देवी उपासना का मुख्‍य प्रयोजन है। नवरात्रि मानसिक, शारीरिक और अध्‍यात्‍मिक शक्ति का प्रतीक है। इसलिए हजारों वर्षों से लोग नवरात्रि मना रहे हैं।

शारदीय नवरात्रि
शारदीय नवरात्रि

17 अक्टूबर से शुरू होकर नवरात्र 25 अक्टूबर तक चलेगा। इन नौ दिनों में मां भगवती की भक्तिपूर्वक आराधना की जायेगी। नवरात्र के पहले दिन ही मां शैलपुत्री की आराधना में पटना आसपास के इलाके के लोग सुबह से ही भक्ति में लीन रहे। मंदिरों तथा घरों में कलश स्थापना के साथ देवी दुर्गा की आराधना शुरू हो गई है।

बिहार में कोरोना संक्रमण की रोकथाम और विधानसभा चुनाव के मद्देनजर इस बार दुर्गापूजा पर न तो पंडाल बनाए जा रहे हैं और न ही मेले का आयोजन किया जाएगा। गृह विभाग की ओर से एक आदेश भी जारी किया गया है।

कोरोना महामारी को लेकर जिला प्रशासन की मनाही के कारण दुर्गापूजा समितियां इस बार बदले रूप में पूजा कर रही है। प्रमुख पूजा समितियों ने छोटे मंडप बनाकर कलश स्थापित करने की तैयारी की है। सरकार के आदेश के मुताबिक, इस बार पूजा के लिए बड़े पूजा पंडाल और मूर्तियां स्थापित करने की मनाही है।

बड़ी पटन देवी मंदिर के पुजारी आचार्य विजय शंकर गिरी ने बताया कि मंदिर में किसी प्रकार का कोई पंडाल नहीं बनाया गया और नहीं अलग से कोई मूर्ति स्थापित की गई है। पहले से स्थापित मां की प्रतिमा की पूजा कलश स्थापना के साथ आरंभ हो जाएगी। मंदिरों की रंगाई-पुताई के साथ फूल और रंगीन बल्बों से सजाया गया है। कलश स्थापना के साथ मंदिरों में मां की आराधना आरंभ की गयी है।

 

ये भी पढ़ें- पाक सेना पर फिर बरसे नवाज शरीफ, कहा ‘सेना प्रमुख ने ISI के साथ मिलकर रची साजिश’

Related Articles

Back to top button