शिक्षामित्रों ने लगातार पांचवे दिन भी किया प्रदर्शन, सरकार के सामने रखी मांग

0

इलाहाबाद। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शिक्षामित्रों का विरोध शनिवार को भी जारी रहा। जब से कोर्ट का फैसला आया है तब से राज्य के कई जिलों में शिक्षामित्र प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ एवं आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन ने लगातार चौथे दिन भी यहां आंदोलन किया।

supreme-court

also read : सुप्रीम कोर्ट के फैसले से लखीमपुर के शिक्षामित्र पर टूटा दुखों का पहाड़, पति की मौत

बताते चलें, शनिवार को शिक्षामित्रों ने जिले भर के ब्लाक संसाधन केंद्र का घेराव कर अपनी मांगे सामने रखीं। जनपदीय आह्वान पर भी तकरीबन दो सौ शिक्षामित्रों ने नगर शिक्षाधिकारी कार्यालय (सीपीआई) पर भी शांतिपूर्ण धरना दिया। यहां के कर्मचारियों ने भी धरने का समर्थन किया

धरना करने के पीछे शिक्षामित्रों का एक मकसद सामने आ रहा है और वो ये है कि सभी सरकार से जल्द फैसला लेने की मांग कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शिक्षमित्र उग्र हो गए हैं। पूरे प्रदेश में शिक्षा मित्रों ने प्रदर्शन करते हुए धमकी दी है कि जो केंद्र और राज्‍य दोनों को हिला सकती है।

shikshamitr

पीएम मोदी और सीएम योगी के संसदीय क्षेत्रों में भी यही हाल है। नाराज शिक्षमित्रों ने मार्च निकालते हुए विरोध प्रदर्शन किया। पहीं लखीमपुर में भी एक घटना घटी है। वहीं, इलाहाबाद में शिक्षामित्रों के वक्ताओं ने कहा कि अभी शासन ने विभाग को कोई निर्देश नहीं दिया गया है। इसके बावजूद बेसिक शिक्षा अधिकारी ने समायोजित शिक्षकों के विद्यालय के बैंक खातों को सीज करा दिया। सभा में इसकी निंदा की गई।

also read : बड़ी खबर: किसी भी शिक्षामित्र को नहीं हटाएगी सरकार

उधर, सुप्रीम कोर्ट ने 25 जुलाई को फैसला सुनाया था कि कि शिक्षामित्र समायोजित नहीं होंगे। उन्‍हें दोबारा से परीक्षा देनी होगी। इससे आहत शिक्षा मित्रों का आंदोलन लगातार जारी है। प्रदेशभर में सैकड़ों शिक्षा मित्र धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदेश सरकार लगातार शांति बनाए रखने की अपील कर रही है।

loading...
शेयर करें