SHINE CITY ने ग्राहकों को लगाया करोड़ो का चूना,लखनऊ में धरना प्रदर्शन

लखनऊ। शाइन सिटी जिसका धोखाधड़ी में अपना एक इतिहास रहा है। लेकिन यह शायद अफसरानों की दरियादिली है कि उसके साथ काम करने वाले एसोसिएट अब अलग-अलग नामों से कंपनियां चला रहे हैं। वह आये दिन गरीब तबके के लोगों की खून पसीने की कमाई का पैसा पीते जा रहे हैं। लेकिन इस देश के हुक्मरानों व अफसरों को इस से लेना देना नहीं है, क्योंकि पैसा उनका नहीं गरीब जनता का है। जो शायद बूमरैंग की तरह घूम कर उनके पास अपनी दस्तक देता है।

अब देखने वाली बात तो यह है कि आखिर कौन इनको संरक्षण देता है? आखिर कोई तो होगा इनके पीछे जो इनके हौसले इतने बुलंद है? की सैकड़ों एफआईआर हो जाने के बावजूद अभी तक शाइन ग्रुप में काम करने वाले लोग जो अपनी अलग नाम से कंपनियां बनाकर ठगी कर रहे हैं। लेकिन उसके बावजूद भी उनके ऊपर कोई भी पुलिसिया कार्रवाई नहीं हुई है।

आपको बताते चलें कि, शाइन सिटी के खिलाफ अकेले गोमतीनगर थाने में लगभग 200 मुकदमे है। पूरे प्रदेश भर में लगभग ढाई हजार मुकदमें दर्ज है। लेकिन पुलिस के हाथ अभी तक कुछ आया है और वह सिफर है। हम सिफर इसलिए कह रहे हैं क्योंकि जो पकड़े गए हैं वह तो मात्र कर्मचारी हैं। अब तक मालिक पुलिस की हाथों से काफी दूर है और इससे चोर पुलिस की जुगलबंदी ही कहेंगे। इसलिए कि जिस शाइन सिटी के साथ में काम करने वाले लोगों ने अपने अलग ग्रुप और कंपनियां बना ली है और लगातार धोखेबाजी कर रहे हैं लेकिन प्रशासन अपने हाथ समेट कर बैठा हुआ है।

शाइन सिटी से पीड़ित की मदद करने के लिए राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन ने आज गोमतीनगर थाने पर पीड़ितों की शिकायत करवाई है। शाइन सिटी के सहयोगी रहे लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज करने की मांग की। ताकि जो प्रॉपर्टी डीलिंग के नाम पर शाइन सिटी से जुड़े लोग ही गोरखधंधा कर रहे हैं वह बंद हो सके और निवेशकों को उनका हक मिल सके।

Related Articles