शिवराज सिंह चौहान ने कहा- कोरोना को रोकना है परंतु आर्थिक गतिविधियों को नहीं

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमें पूरी सावधानियां बरतते हुए कोरोना को पूर्ण रूप से नियंत्रित कर समाप्त करना है, लेकिन इसका विशेष ध्यान रखा जाए कि आर्थिक गतिविधियों पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़े।

उमरिया: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमें पूरी सावधानियां बरतते हुए कोरोना को पूर्ण रूप से नियंत्रित कर समाप्त करना है, लेकिन इसका विशेष ध्यान रखा जाए कि आर्थिक गतिविधियों पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़े। मुख्यमंत्री चौहान आज जिले के बांधवगढ़ से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा करते यह बात कही।

उन्होंने कहा कि विवाह आयोजनों, वस्तुओं के परिवहन आदि में कोई बाधा नहीं आना चाहिए और न ही कोई समय का बंधन। आयोजनों में शामिल होने वाले व्यक्तियों की संख्या सीमित की जा सकती है। जिन क्षेत्रों में संक्रमण अधिक है, वहां छोटे-छोटे कंटेनमेंट जोन भी बनाए जाएं। इस संबंध में जिले के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप निर्णय ले सकते हैं।

ये भी पढ़े : सुरेश रैना जम्मू-कश्मीर के खिलाड़ियों को देना चाहते है अपना अनुभव

मास्क लगाने का सख्ती से पालन किए जाना अनिवार्य

चौहान ने निर्देश दिए कि मास्क लगाने का सख्ती से पालन किए जाना अनिवार्य है। सभी दुकानदार एवं ग्राहक अनिवार्य रूप से मास्क लगाएं। मास्क नहीं लगाने पर जुर्माना भी किया जाए। एक-दूसरे से आवश्यक दूरी बनाए रखने संबंधी सावधानी भी बरते जाना आवश्यक है। इस संबंध में जन जागरूकता अभियान चलाया जाए।

ये भी पढ़े : लखनऊ: 50 वर्ष की उम्र पार कर चुके पुलिस कर्मी हुए रिटायर

चौहान ने इंदौर एवं भोपाल में सावधानी बरते जाने के निर्देश

कोरोना संक्रमण की जिलेवार समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने इंदौर एवं भोपाल में विशेष सावधानी बरते जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सर्वाधिक कोरोना के नए मरीज इंदौर में 565 पाए गए हैं, वहीं भोपाल में 324 नए मरीज मिले हैं। भोपाल की गत सात दिनों की पॉजिटिविटी रेट 12 प्रतिशत है, वहीं इंदौर की 10 प्रतिशत। उन्हाेंने इंदौर एवं भोपाल में विशेष सावधानी बरते जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकना है और पॉजिटिविटी रेट को किसी भी हालत में 05 प्रतिशत से ऊपर नहीं जाने देना है। भोपाल में कोलार रोड क्षेत्र में सर्वाधिक मरीज आ रहे हैं। उन्होंने अधिक संक्रमण वाले क्षेत्रों में कंटेनमेंट जोन बनाए जाने के निर्देश दिए।

Related Articles