शूटर दादी ने दुनिया को कहा अलविदा, कोरोना संक्रमण का चल रहा था इलाज

मेरठ: देश में रोजाना कोई न कोई कोरोना से अपनी जान गँवा रहा है। कोरोना की दूसरी लहर आने के बाद से लोगो की जान की कीमत मानो मिटटी के मोल हो गई है। शुक्रवार को शूटर दादी के नाम से मशहूर चंद्रो दादी का निधन हो गया है। चंद्रो तोमर (Chandro Tomar) उर्फ़ शूटर दादी एक मशहूर निशानेबाज थी। मंगलवार को मशहूर निशानेबाज चंद्रो तोमर (Chandro Tomar) के कोविड-19 पॉजिटिव पाई गई थी, जिसका इलाज मेरठ के एक निजी अस्पताल में चल रहा था। उन्हें विश्व की सबसे उम्रदराज निशानेबाज माना जाता था। हाल ही में इनके जीवन पर आधारित एक फिल्म ‘सांड की आंख’ ने कई रिकार्ड्स तोड़े थे।

ये भी पढ़े: कोरोना काल में बढ़ा Heart Attack का खतरा, ऐसे करें हार्ट और Lungs की केयर

Chandro Tomar के जीवन पर बन चुकी है फिल्म

शूटर दादी चंद्रो (Chandro Tomar) तोमर ने 60 वर्ष की उम्र में अपनी देवरानी प्रकाशी तोमर के साथ निशानेबाजी शुरू की थी जिसके बाद उन्होंने कई प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया और बहुत सारे मेडल्स जीते। उनकी देवरानी प्रकाशी तोमर भी दुनिया की उम्रदराज निशानेबाजों में से एक है। समाज में पुरुष प्रधान रूढ़िवादी सोच वालों के गाल पर तमाचा मारते हुए चंद्रो दादी (Chandro Tomar) ने नए कीर्तिमान गढ़े और कई प्रतियोगिताएं जीती।

उत्तर प्रदेश के बागपत में अपने परिवार के साथ रहने वाली शूटर दादी चंद्रो तोमर (Chandro Tomar) को सांस लेने में परेशानी के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिसकी जानकारी उनके ट्वीटर पेज पर ट्वीट करके दी गई थी। ट्वीट में लिखा था, ‘दादी चंद्रो तोमर कोरोना पॉजिटिव हैं और सांस की परेशानी के चलते हॉस्पिटल में भर्ती हैं. ईश्वर सबकी रक्षा करे – परिवार.’

Related Articles