सुशांत केस में जांच के इतने दिनों बाद सिद्धार्थ पिठानी पाया जा रहा है संदिग्थ

मुंबई: बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के सीबीआई की जांच के इतने दिन बीत चुके है और अब तक सीबीआई की जांच तीन लोगों, सिद्धार्थ पिठानी, कुक नीरज सिंह और घरेलू सहायक दीपक सावंत के ईर्द-गिर्द ही रही है। सीबीआई की पूछताछ लगातार सिद्धार्थ पिठानी से जारी है और सच सामने लाने की कोशिशों में लगातार जुटी हुई है। सीबीआई सुशांत सिंह के दोस्त सिद्धार्थ पिठानी को डीआरडीओ गेस्ट हाउस लेकर आई और उनसे पूछताछ की।

सुशांत सिंह केस में सीबीआई पिछले 5 दिनों से सिद्धार्थ पिठानी को अबतक हर दिन पूछताछ के लिए बुला रही है। ख़बरों के मुताबिक़ सीबीआई अब तक सिद्धार्थ पिठानी से करीब 40 घंटे से अधिक पूछताछ कर चुकी है। सिद्धार्थ ने सुशांत की मौत वाले दिन का सारा वाकया सीबीआई को सुनाया है, मगर जांच एजेंसी को फिर भी कुछ संदेहास्पद लग रहा है। यही वजह है कि सीबीआई अपनी जांच में सिद्धार्थ पिठानी को मुख्य कड़ी के रूप में देख रही है।

अगर हम जांच के पहले दिन को छोड़ दे तो भी सीबीआई दूसरे दिन से ही हर दिन सिद्धार्थ पिठानी से पूछताछ कर रही है। अब हम आपको बता दें की जांच के दूसरे दिन जब सीबीआई सुशांत सिंह के बांद्रा वाले फ्लैट पर सीन रिक्रिएट करने पहुंची तो उस दौरान भी सिद्धार्थ भी वह पे उनके साथ मौजूद थे। ऐसा पता चला है की सिद्धार्थ और कुक नीरज ने सुशांत का शव लटका पाया था। तीसरे दिन भी सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में सीबीआई ने अभिनेता के दोस्त सिद्धार्थ पिठानी, रसोइये नीरज सिंह और घरेलू सहायक दीपेश सावंत से करीब पांच घंटे तक पूछताछ की। इतना ही नहीं, चौथे और पांचवें दिन भी सिद्धार्थ से पूछताछ हुई। पांचवें दिन यानी मंगलवार को सिद्धार्थ पिठानी, कुक नीरज सिंह और नौकर दीपेश सावंत से घंटों पूछताछ हुई।

वैसे तो 19 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने सुशांत सिंह मौत मामले में सीबीआई जांच के आदेश दिए थे। सुप्रीम कोर्ट ने पटना में दर्ज एफआईआर को सही माना था और केंद्र सरकार की मंजूरी को हरी झंडी दी थी और सीबीआई ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी। अब ऐसी खाब्स्रें आई है की सुशांत सिंह के पिता केके सिंह ने पटना में रिया चक्रवर्ती को मुख्य आरोपी बना एक मामला दर्ज कराया था और सुशांत को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया था। सुशांत सिंह 14 जून को अपने बांद्रा वाले फ्लैट में मृत पाए गए थे।

Related Articles