Amazon Prime पर रिलीज सिद्धार्थ मल्होत्रा की मूवी Shershaah, जानें मूवी रिव्यू

कारगिल युद्ध के नायक कैप्टन विक्रम बत्रा और कारगिल युद्ध पर आधारित सिद्धार्थ की फिल्म Shershaah आज (OTT) platform अमेजन प्राइम पर रिलीज हुई

मुम्बई: कारगिल युद्ध के नायक कैप्टन विक्रम बत्रा और कारगिल युद्ध पर आधारित सिद्धार्थ की फिल्म Shershaah आज (OTT) platform अमेजन प्राइम पर रिलीज हुई। विक्रम बत्रा कारगिल युद्ध के असली हीरो जो आज से 22 साल पहेले देश के लिए लड़ते हुए शहीद हो गए थे। उनके अदम्य साहस और देशभक्ति की बदौलत भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सेना को थूक चटा दिया था और उनके खिलाफ जीत हासिल की थी। उनके के इस साहस ने पूरे देश भर मे उन्हें मशहूर कर दिया था और महज 24 साल की उम्र में उन्होंने देश की शान में जान की बाजी लगा दी और उन्हें “मरणोपरांत परमवीर चक्र” से सम्मानित किया गया। उनकी इसी विरासत को एक श्रद्धांजलि के रूप में फिल्म ‘शेरशाह’ अमेजन प्राइम पर रिलीज की गई है। इसमें बॉलीवुड अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा, कैप्टन विक्रम बत्रा के साथ-साथ उनके जुड़वां भाई विशाल बत्रा की भूमिका में भी हैं।

जानें  फिल्म का छोटा सा इन्ट्रो

विक्रम बत्रा (सिद्धार्थ मल्होत्रा) हिमाचल प्रदेश के एक छोटे से शहर पालमपुर से हैं। बचपन से ही उनका सपना आर्मी ऑफिसर बनने का है। जब उनका सपना पूरा हो जाता है तो विक्रम अपने शौर्य और अदम्य साहस से देश की शान बढ़ाते हैं। उसकी वीरता से प्रभावित होकर विक्रम और उनकी टीम को 1999 में कारगिल युद्ध में तैनात किया जाता है। इस कहानी के बराबर विक्रम बत्रा और डिंपल चीमा (कियारा आडवाणी) की लव स्टोरी भी साथ-साथ चलती है। विक्रम बत्रा कैसे कारगिल युद्ध में देश का झंडा “प्वॉइंट 4875 रेंज” पर लहराते हैं और साथ ही डिंपल चीमा के साथ के उनकी लव स्टोरी किस कदर मोड़ लेती है,  यही फिल्म की मूल कहानी है।

फिल्म के डायलॉग्स इस फिल्म की जान हैं, फिल्म के ट्रेलर में जिन डायलॉग्स का इस्तेमाल किया गया है उसके  मूल कहानी में इन डायलॉग्स की टाइमिंग अपने आप मे बेहद अहम है। खास तौर से ये डायलॉग- “एक फौजी से बड़ा कोई रुतबा नहीं होता, वर्दी की शान से बड़ी कोई शान नहीं होती और देश से बड़ा कोई धर्म नहीं होता” अपने आप में विक्रम बत्रा की जिंदगी का सारांश बताने के लिए काफी है। विक्रम बत्रा की अपनी बाते भी किसी शानदार स्क्रिप्ट से कम नहीं है- “या तो तिरंगा लहरा कर आउंगा, या तो तिरंगे में लिपट के आउंगा। लेकिन आउंगा जरूर!” ये डायलॉग किसी फिल्म  का नहीं बल्कि अपने दोस्त से मुखातिब होते हुए, खुद विक्रम बत्रा की जुबान से निकला हुआ संवाद था।

 कियारा आडवाणी, सिद्धार्थ मल्होत्रा
कियारा आडवाणी, सिद्धार्थ मल्होत्रा

जाने कैसी रही Shershaah ऐक्टिंग

बात करें उनके ऐक्टिंग करियर की तो पिछले कई सालों से कोई खास प्रभाव नहीं दिखा पाए दर्शकों के जहन में लगभग कई दशक से भी ज्यादा वक्त से अपने चॉकलेटी इमेज वाले अभिनेता के रूप में दिखे, अगर उनकी पिछले कई फिल्मों की बातें करें तो वो चॉकलेटी नायक के रूप मे दिखें हालकीं उन्होंने बीच-बीच में इस इमेज को तोड़ने की कोशिस भी की थी पर वो सफल ना के बराबर हुए थे। लेकिन इस फिल्म में वो अपने कम्फर्ट ज़ोन से बाहर निकलकर जो किरदार निभाया है वो काबिले तारीफ है उन्होंने जिस सब्जेक्ट को चुना उसकी वजह से उनका चॉकलेटी बॉय इमेज टूटता नजर आया फिल्म के दौरान। फिल्म के दौरान कियारा हाव-भाव में बिल्कुल नैचुरल लगीं। ऐसा लग रहा था कि वह डिंपल चीमा के किरदार को खुद में जी रही हों, फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा और कियारा आडवाणी की केमेस्ट्री बेहद उम्दा नजर आई।

 सिद्धार्थ मल्होत्रा
सिद्धार्थ मल्होत्रा

फिल्म Shershaah का सफरनामा

फिल्म के प्रोडक्शन यूनिट की मेहनत फिल्म की स्क्रीन पर नजर आ रही है। वॉर-ज़ोन को हिमालय की पहाड़ियों को ध्यान में रखते हुए फिल्म पर काम करना अपने आप में ही मुश्किल होता है, मगर “निर्देशक विष्णुवर्धन” की बात करें तो उन्होंने अपनी पहली हिंदी फिल्म में अच्छा प्रभाव डाला है। तमिल निर्देशक अपने अनुभव का उपयोग करते हैं और फिल्म को एक सभ्य तरीके से लोगों के बीच रखते हुए इसे बहुत ही भावनात्मक और गर्व के साथ खत्म करते हैं। उन्होंने कारगिल युद्ध को विस्तार से दिखाया है। अगर उन्होंने सहायक कलाकारों के लिए कुछ बेहतर अभिनेताओं का इस्तेमाल किया होता फिल्म के अंदर, तो चीजें अगले स्तर और अलग स्तर पर दिखती। 2 घंटे 15 मिनट की ‘शेरशाह’ एक स्लीक फिल्म है, खैर फिल्म देखने लायक है, और इस फिल्म को अगर रेटिंग दी जाए तो 5/4 होगा।

kargil
kargil

जाने कौन थे कैप्टेन  विक्रम बत्रा

(09 सितम्बर 1974 – 07 जुलाई 1999) भारतीय सेना के एक अधिकारी थे जिन्होंने कारगिल युद्ध में अभूतपूर्व वीरता का परिचय देते हुए वीरगति प्राप्त की। उन्हें मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च वीरता सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था।  

 

यह भी पढ़े:लोकभवन में आज ऑनलाइन पदस्थापन एवं नियुक्ति पत्र वितरण समारोह का आयोजन

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles