Signal ने तोड़ा WhatsApp का नेटवर्क, भारत में किया टॉप

नई दिल्ली: WhatsApp की नई प्राइवेसी आने के बाद से लोग अब मैसेजिंग ऐप Signal को जमकर डाउनलोड कर रहे हैं। ऐसे में Signal ऐप व्हाट्सएप को पीछे छोड़कर टॉप फ्री ऐप बन गया है। इस ऐप को व्हाट्सएप के को-फाउंडर ब्रायन एक्टन और मार्लिंसपाइक ने मिलकर बनाया था। यह ऐप दुनिया का सबसे सिक्योर ऐप माना जा रहा है।

टॉप फ्री ऐप बना Signal

Whats App द्वारा लागू की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर अब लोग इसका इस्तेमाल करने में कतरा रहे हैं। जिससे लोग अब इसका दूसरा विकल्प ढ़ूंढ रहे हैं और दूसरे विकल्प के रूप में Signal ऐप लोगों को काफी सिक्योर लग रहा है। जिससे इसको धड़ल्ले डाउनलोड किया जा रहा है और यही कारण है कि Signal ऐप Apple App स्टोर पर व्हाट्सएप को पीछे कर टॉप फ्री ऐप बन गया है। Signal ऐप ने भारत, जर्मनी, फ्रांस, आस्ट्रिया, फिनलैंड, हांगकांग और स्विट्जरलैंड में WhatsApp को पीछे छोड़ टॉप पर आ गया है। वहीं Google Play Store पर जर्मनी और हंगरी में यह ऐप टॉप फ्री बन गया है।

वेरिफिकेशन में हो रही देरी

Signal ऐप को डाउनलोड करने की इतनी होड़ मची हुई है कि इसके ओटीपी वेरिफिकेशन में देरी हो रही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक Signal ऐप को पिछले दो दिन में एंड्राइड और iOS डिवाइसेज में एक लाख से ज्यादा लोगों ने डाउनलोड किया है। इसके अलावा 2021 के पहले हफ्ते में Whats App के नए इंस्टॉलेशन में 11 प्रतिशत की गिरावट आई है।

Whats App से सिक्योर है Signal

Signal को दुनिया का सबसे सिक्योर ऐप माना जा रहा है। इस ऐप से डेटा शेयर होने का खतरा नहीं है। इस ऐप में आपके चैट बैकअप को ऑनलाइन स्टोरेज पर नहीं भेजा जाता। यह डेटा आपके फोन में ही सेव रहता है। इसमें प्राइवेसी के लिए कई सारे फीचर्स दिए गए हैं। इस ऐप को Signal Foundation and Signal Messenger ने डेवलप किया है, जो एक नॉन-प्रॉफिट कंपनी है। सिग्नल फाउंडेशन को व्हाट्सएप के को-फाउंडर ब्रायन एक्टन और मार्लिंसपाइक ने मिलकर बनाया था। एक्टन ने 2017 में व्हाट्सएप को छोड़ा था और सिग्नल को फंड करने के लिए लगभग 50 मिलियन डॉलर का निवेश किया था।

Related Articles

Back to top button